विशेष कार्यक्रम / Special Program

World Wildlife Day

World Wildlife Day is celebrated annually on March 3 to commemorate the signing of CITES on the same day in 1973. CITES, or the Convention on International Trade in Endangered Species of Wild Fauna and Flora, is an agreement between world governments to conserve global flora and fauna. World Wildlife Day is a reminder to make efforts toward preserving wild flora and fauna.
The first World Wildlife Day was celebrated in 2015, two years after the United Nations proclaimed March 3 as Wildlife Day. Thailand suggested that the day of the adoption of CITES should be celebrated as World Wildlife Day annually to raise awareness about wildlife conservation.
The global flora and fauna are facing the dangers of extinction, threatening to disrupt ecological balance. Therefore, advocating for their conservation through World Wildlife Day becomes essential.
Wildlife Day is a significant occasion because it reminds us of the need to conserve the wildlife of our planet. Flora and fauna in different parts of the world face many threats. Therefore, it is important to raise awareness about their conservation through World Wildlife Day.
Global wildlife contributes to human needs by providing us with food, medicine, raw materials, etc. World Wildlife Day aims to raise awareness about the importance of wildlife. Also conserving wildlife is also a United Nations Sustainable Development Goal 15.
Significance of March 3 as World Wildlife Day. March 3, 1973, was the day when the Convention on International Trade in Endangered Species of Wild Fauna and Flora was signed. This day was proclaimed by the United Nations as a historic day. Later, Thailand proposed this day be celebrated as World Wildlife Day.

All Subjects Textbooks and Refreshers available

विश्व वन्यजीव दिवस

1973 में इसी दिन सीआईटीईएस पर हस्ताक्षर करने की याद में हर साल 3 मार्च को विश्व वन्यजीव दिवस मनाया जाता है। सीआईटीईएस, या वन्य जीवों और वनस्पतियों की लुप्तप्राय प्रजातियों में अंतर्राष्ट्रीय व्यापार पर कन्वेंशन, वैश्विक वनस्पतियों के संरक्षण के लिए विश्व सरकारों के बीच एक समझौता है और जीव-जंतु विश्व वन्यजीव दिवस जंगली वनस्पतियों और जीवों के संरक्षण की दिशा में प्रयास करने की याद दिलाता है।
संयुक्त राष्ट्र द्वारा 3 मार्च को वन्यजीव दिवस के रूप में घोषित किए जाने के दो साल बाद 2015 में पहला विश्व वन्यजीव दिवस मनाया गया था। थाईलैंड ने सुझाव दिया कि वन्यजीव संरक्षण के बारे में जागरूकता बढ़ाने के लिए CITES को अपनाने के दिन को प्रतिवर्ष विश्व वन्यजीव दिवस के रूप में मनाया जाना चाहिए।
 
वैश्विक वनस्पति और जीव-जंतु विलुप्त होने के खतरे का सामना कर रहे हैं, जिससे पारिस्थितिक संतुलन बिगड़ने का खतरा है। इसलिए, विश्व वन्यजीव दिवस के माध्यम से उनके संरक्षण की वकालत करना आवश्यक हो जाता है।
 
वन्यजीव दिवस एक महत्वपूर्ण अवसर है क्योंकि यह हमें हमारे ग्रह के वन्यजीवों के संरक्षण की आवश्यकता की याद दिलाता है। दुनिया के विभिन्न हिस्सों में वनस्पतियों और जीवों को कई खतरों का सामना करना पड़ता है। इसलिए, विश्व वन्यजीव दिवस के माध्यम से उनके संरक्षण के बारे में जागरूकता बढ़ाना महत्वपूर्ण है।
 
वैश्विक वन्यजीव हमें भोजन, दवा, कच्चा माल आदि प्रदान करके मानव आवश्यकताओं में योगदान करते हैं। विश्व वन्यजीव दिवस का उद्देश्य वन्यजीवों के महत्व के बारे में जागरूकता बढ़ाना है। इसके अलावा वन्यजीवों का संरक्षण भी संयुक्त राष्ट्र सतत विकास लक्ष्य 15 है।
 
विश्व वन्यजीव दिवस के रूप में 3 मार्च का महत्व। 3 मार्च, 1973 वह दिन था जब वन्य जीवों और वनस्पतियों की लुप्तप्राय प्रजातियों में अंतर्राष्ट्रीय व्यापार पर कन्वेंशन पर हस्ताक्षर किए गए थे। इस दिन को संयुक्त राष्ट्र ने ऐतिहासिक दिन घोषित किया था. बाद में थाईलैंड ने इस दिन को विश्व वन्यजीव दिवस के रूप में मनाने का प्रस्ताव रखा।

All Subjects Textbooks and Refreshers available

World Civil Defence Day

World Civil Defence Day is celebrated every year on March 1. This day was established by the International Civil Defence Organisation (ICDO) in 1990 in acknowledgement of people who dedicate their lives to civil defence. World Civil Defence Day is observed to honour the people who work for civil defence and make sacrifices to protect their nation.
Civil Defence Day is also celebrated as a remembrance of the establishment of the ICDO.
Each year, World Civil Defence Day is observed to commemorate the efforts of the International Civil Defence Organisation (ICDO). ICDO is an intergovernmental organisation concerned with civil defence, safety and security. Around 60 member states are a part of the ICDO and celebrate World Civil Defence Day every year.
The history of World Civil Defence Day can be traced back to 2012 when it was officially established.
The International Civil Defence Organisation (ICDO) declared March 1 as World Civil Defence Day in 2012.The organisation chose this date to celebrate the anniversary of the International Civil Defence Organisation’s (ICDO) constitution coming into force. The ICDO’s Constitution was adopted on October 17, 1966, and went into effect on March 1, 1972. The ICDO is given credit for the status of intergovernmental organisations (United Nations, Treaty Series).
World Civil Defence Day increases public awareness of the need for civil defence in disaster recovery.
It is an important day because it improves citizen awareness of disaster preparedness, prevention, and self-defence. It also aims to raise awareness about how civil defence works, how crisis management is taken care of at a federal level, and how citizens can be prepared to tackle emergencies.

All Subjects Textbooks and Refreshers available

विश्व नागरिक सुरक्षा दिवस

विश्व नागरिक सुरक्षा दिवस हर साल 1 मार्च को मनाया जाता है। इस दिन की स्थापना 1990 में अंतर्राष्ट्रीय नागरिक सुरक्षा संगठन (ICDO) द्वारा उन लोगों की स्वीकृति में की गई थी जो नागरिक सुरक्षा के लिए अपना जीवन समर्पित करते हैं। विश्व नागरिक सुरक्षा दिवस उन लोगों को सम्मानित करने के लिए मनाया जाता है जो नागरिक सुरक्षा के लिए काम करते हैं और अपने राष्ट्र की रक्षा के लिए बलिदान देते हैं।
नागरिक सुरक्षा दिवस को ICDO की स्थापना की याद के रूप में भी मनाया जाता है।
प्रत्येक वर्ष, अंतर्राष्ट्रीय नागरिक सुरक्षा संगठन (ICDO) के प्रयासों की स्मृति में विश्व नागरिक सुरक्षा दिवस मनाया जाता है। ICDO नागरिक सुरक्षा, संरक्षा और संरक्षा से संबंधित एक अंतरसरकारी संगठन है। लगभग 60 सदस्य देश ICDO का हिस्सा हैं और हर साल विश्व नागरिक सुरक्षा दिवस मनाते हैं।
 
विश्व नागरिक सुरक्षा दिवस का इतिहास 2012 में खोजा जा सकता है जब इसे आधिकारिक तौर पर स्थापित किया गया था।
अंतर्राष्ट्रीय नागरिक सुरक्षा संगठन (ICDO) ने 2012 में 1 मार्च को विश्व नागरिक सुरक्षा दिवस के रूप में घोषित किया। संगठन ने अंतर्राष्ट्रीय नागरिक सुरक्षा संगठन (ICDO) के संविधान के लागू होने की वर्षगांठ मनाने के लिए इस तिथि को चुना। ICDO का संविधान 17 अक्टूबर, 1966 को अपनाया गया और 1 मार्च, 1972 को लागू हुआ। ICDO को अंतर सरकारी संगठनों (संयुक्त राष्ट्र, संधि श्रृंखला) की स्थिति का श्रेय दिया जाता है।
 
विश्व नागरिक सुरक्षा दिवस आपदा से निपटने में नागरिक सुरक्षा की आवश्यकता के बारे में सार्वजनिक जागरूकता बढ़ाता है।
यह एक महत्वपूर्ण दिन है क्योंकि यह आपदा की तैयारी, रोकथाम और आत्मरक्षा के बारे में नागरिकों की जागरूकता में सुधार करता है। इसका उद्देश्य इस बारे में जागरूकता बढ़ाना भी है कि नागरिक सुरक्षा कैसे काम करती है, संघीय स्तर पर संकट प्रबंधन का ख्याल कैसे रखा जाता है और नागरिकों को आपात स्थिति से निपटने के लिए कैसे तैयार किया जा सकता है।

All Subjects Textbooks and Refreshers available

Let go of your stresses

A psychology professor entered the classroom with half a glass of water in his hand. The students expected the old common question “was it half empty or half full?” But to the surprise, he asked them “How heavy is this glass of water?”
The answers given by the students ranged from 7 oz. To 25 oz. But the professor replied that the actual weight of the glass with water doesn’t always matter but how long you hold the glass is what matters.
If you hold the glass for a minute, you won’t feel much weight. But if you hold for 10 minutes, you will feel a little more weight and it gets heavier for you with hours.
If you hold it for the entire day, then your hands would go numb and pain. Similar is the case when you carry stress with you. If you think about it for a while and leave it, then there is no problem but if you think about it for hours, it starts becoming a problem and it becomes worse if you sleep with it.
Moral: You should learn to let go of your stresses and never sleep with it. If you can do something about it, just do it. In the other case, just leave it and work towards your goals or else it just kills your productivity.

All Subjects Textbooks and Refreshers available

Let go of your stresses

A psychology professor entered the classroom with half a glass of water in his hand. The students expected the old common question “was it half empty or half full?” But to the surprise, he asked them “How heavy is this glass of water?”
The answers given by the students ranged from 7 oz. To 25 oz. But the professor replied that the actual weight of the glass with water doesn’t always matter but how long you hold the glass is what matters.
If you hold the glass for a minute, you won’t feel much weight. But if you hold for 10 minutes, you will feel a little more weight and it gets heavier for you with hours.
If you hold it for the entire day, then your hands would go numb and pain. Similar is the case when you carry stress with you. If you think about it for a while and leave it, then there is no problem but if you think about it for hours, it starts becoming a problem and it becomes worse if you sleep with it.
Moral: You should learn to let go of your stresses and never sleep with it. If you can do something about it, just do it. In the other case, just leave it and work towards your goals or else it just kills your productivity.

All Subjects Textbooks and Refreshers available

‘जीवन और समस्याएं’

किसी शहर में, एक आदमी प्राइवेट कंपनी में जॉब करता था। वो अपनी ज़िन्दगी से खुश नहीं था, हर समय वो किसी न किसी समस्या से परेशान रहता था। एक बार शहर से कुछ दूरी पर एक महात्मा का काफिला रुका । शहर में चारों और उन्ही की चर्चा थी। बहुत से लोग अपनी समस्याएं लेकर उनके पास पहुँचने लगे, उस आदमी ने भी महात्मा के दर्शन करने का निश्चय किया।
छुट्टी के दिन सुबह-सुबह ही उनके काफिले तक पहुंचा । बहुत इंतज़ार के बाद उसका का नंबर आया।
वह बाबा से बोला- “बाबा , मैं अपने जीवन से बहुत दुखी हूँ, हर समय समस्याएं मुझे घेरी रहती हैं, कभी ऑफिस की टेंशन रहती है, तो कभी घर पर अनबन हो जाती है, और कभी अपने सेहत को लेकर परेशान रहता हूँ …।”
बाबा कोई ऐसा उपाय बताइये कि मेरे जीवन से सभी समस्याएं ख़त्म हो जाएं और मैं चैन से जी सकूँ ?
 
बाबा मुस्कुराये और बोले – “पुत्र, आज बहुत देर हो गयी है मैं तुम्हारे प्रश्न का उत्तर कल सुबह दूंगा … लेकिन क्या तुम मेरा एक छोटा सा काम करोगे …?”
“हमारे काफिले में सौ ऊंट हैं, मैं चाहता हूँ कि आज रात तुम इनका खयाल रखो …जब सौ के सौ ऊंट बैठ जाएं तो तुम भी सो जाना …” ऐसा कहते हुए महात्मा अपने तम्बू में चले गए ।
अगली सुबह महात्मा उस आदमी से मिले और पुछा – ” कहो बेटा, नींद अच्छी आई।”
वो दुखी होते हुए बोला – “कहाँ बाबा, मैं तो एक पल भी नहीं सो पाया। मैंने बहुत कोशिश की पर मैं सभी ऊंटों को नहीं बैठा पाया, कोई न कोई ऊंट खड़ा हो ही जाता “
बाबा बोले – “बेटा, कल रात तुमने अनुभव किया कि चाहे कितनी भी कोशिश कर लो सारे ऊंट एक साथ नहीं बैठ सकते, तुम एक को बैठाओगे तो कहीं और कोई दूसरा खड़ा हो जाएगा। इसी तरह तुम एक समस्या का समाधान करोगे तो किसी कारणवश दूसरी खड़ी हो जाएगी ” पुत्र जब तक जीवन है ये समस्याएं तो बनी ही रहती हैं … कभी कम तो कभी ज्यादा …।”
“तो हमें क्या करना चाहिए ?” – आदमी ने जिज्ञासावश पुछा।
“इन समस्याओं के बावजूद जीवन का आनंद लेना सीखो”
कल रात क्या हुआ ? :
1) कई ऊंट रात होते -होते खुद ही बैठ गए,
2) कई तुमने अपने प्रयास से बैठा दिए,
3) बहुत से ऊंट तुम्हारे प्रयास के बाद भी नहीं बैठे … और बाद में तुमने पाया कि उनमे से कुछ खुद ही बैठ गए …।
कुछ समझे? समस्याएं भी ऐसी ही होती हैं।।
1) कुछ तो अपने आप ही ख़त्म हो जाती हैं ,
2) कुछ को तुम अपने प्रयास से हल कर लेते हो
3) कुछ तुम्हारे बहुत कोशिश करने पर भी हल नहीं होतीं ,
ऐसी समस्याओं को समय पर छोड़ दो, उचित समय पर वे खुद ही ख़त्म हो जाती हैं।
जीवन है, तो कुछ समस्याएं रहेंगी ही रहेंगी, पर इसका ये मतलब नहीं की तुम दिन रात उन्ही के बारे में सोचते रहो …
समस्याओं को एक तरफ रखो और जीवन का आनंद लो, चैन की नींद सो, जब उनका समय आएगा वो खुद ही हल हो जाएँगी”
बिंदास मुस्कुराओ क्या ग़म है ,
ज़िन्दगी में टेंशन किसको कम है ।।
अच्छा या बुरा तो केवल भ्रम है,
जिन्दगी का नाम ही,
कभी ख़ुशी कभी ग़म है।

All Subjects Textbooks and Refreshers available

National Science Day

National Science Day is an annual celebration observed in India on 28th February to commemorate the discovery of the Raman Effect, for which the Indian physicist C.V. Raman won the Nobel Prize. In 1986, upon the request of the National Council for Science and Technology Communication (NCSTC), 28th February was designated as National Science Day by the Government of India.
 In 1986, the National Council for Science, Technology, and Communications (NCSTC), requested the central government to declare 28th February as the national science day date. This is not only to commemorate Sir C.V. Raman’s achievements but also to recognize the achievements in the scientific field of other scientists.
After the first National Science Day on 28th February 1987, the NCSTC announced the creation of the National Science Promotion Award, which recognizes individuals for their contributions to science and communication.
National Science Day is a great occasion to highlight the importance of science in the world and to encourage young minds to take up this subject.
National Science Day aims to spread awareness about the contribution of C.V. Raman, an Indian physicist, in discovering the Raman Effect on 28th February 1928. This effect refers to the inelastic scattering of photons by matter, which results in the exchange of energy and change in the direction of light. This was a significant discovery for which Raman received a Noble Prize in Physics in 1930.
Science Day honors both this discovery and the brilliant discoverer. Therefore, the day is celebrated widely in India, with various educational institutions participating in the celebration.

All Subjects Textbooks and Refreshers available

राष्ट्रीय विज्ञान दिवस

राष्ट्रीय विज्ञान दिवस रमन प्रभाव की खोज के उपलक्ष्य में 28 फरवरी को भारत में मनाया जाने वाला एक वार्षिक उत्सव है, जिसके लिए भारतीय भौतिक विज्ञानी सी.वी. रमन ने नोबेल पुरस्कार जीता। 1986 में, राष्ट्रीय विज्ञान और प्रौद्योगिकी संचार परिषद (एनसीएसटीसी) के अनुरोध पर, 28 फरवरी को भारत सरकार द्वारा राष्ट्रीय विज्ञान दिवस के रूप में नामित किया गया था।
 1986 में, राष्ट्रीय विज्ञान, प्रौद्योगिकी और संचार परिषद (एनसीएसटीसी) ने केंद्र सरकार से 28 फरवरी को राष्ट्रीय विज्ञान दिवस घोषित करने का अनुरोध किया। यह केवल सर सी.वी. की स्मृति में नहीं है। रमन की उपलब्धियों के अलावा अन्य वैज्ञानिकों की वैज्ञानिक क्षेत्र की उपलब्धियों को भी पहचानना है।
28 फरवरी 1987 को पहले राष्ट्रीय विज्ञान दिवस के बाद, एनसीएसटीसी ने राष्ट्रीय विज्ञान संवर्धन पुरस्कार के निर्माण की घोषणा की, जो व्यक्तियों को विज्ञान और संचार में उनके योगदान के लिए मान्यता देता है।
राष्ट्रीय विज्ञान दिवस दुनिया में विज्ञान के महत्व को उजागर करने और युवा दिमागों को इस विषय को अपनाने के लिए प्रोत्साहित करने का एक महान अवसर है।
राष्ट्रीय विज्ञान दिवस का उद्देश्य सी.वी. के योगदान के बारे में जागरूकता फैलाना है। रमन, एक भारतीय भौतिक विज्ञानी, ने 28 फरवरी 1928 को रमन प्रभाव की खोज की। यह प्रभाव पदार्थ द्वारा फोटॉन के अकुशल प्रकीर्णन को संदर्भित करता है, जिसके परिणामस्वरूप ऊर्जा का आदान-प्रदान होता है और प्रकाश की दिशा में परिवर्तन होता है। यह एक महत्वपूर्ण खोज थी जिसके लिए रमन को 1930 में भौतिकी में नोबल पुरस्कार मिला।
विज्ञान दिवस इस खोज और प्रतिभाशाली खोजकर्ता दोनों का सम्मान करता है। इसलिए, यह दिन भारत में व्यापक रूप से मनाया जाता है, जिसमें विभिन्न शैक्षणिक संस्थान उत्सव में भाग लेते हैं।

All Subjects Textbooks and Refreshers available

World NGO Day

World NGO Day is celebrated on February 27. It is celebrated as an international day of recognition and celebration for NGOs.
The idea came from the NGO community under the United Nations General Assembly (UNGA), which recognised “the importance of non-governmental organisations in achieving sustainable development goals, especially with respect to disaster resilience.”NGOs have a significant role in tackling global challenges such as development, health and the environment. They are indispensable in achieving and maintaining the health goals of the Millennium Development Goals (MDGs) and Sustainable Development Goals (SDGs).
Many volunteers work in NGOs because they see them as a chance to improve their communities while contributing to the proper care of the world’s poorest people.
The development of the global private sector has led to the growth of NGOs and their role in maintaining and strengthening good governance. Moreover, according to the UN Department of Public Information (UNDPI), NGOs are key partners in achieving development goals as they have a wide array of resources, expertise, and creativity.
Lastly, more than half of NGOs work on a local level as they have been addressing community problems such as poverty and inequality.
We can trace the history of International NGO Day back to the year 2010 when the UN General Assembly proclaimed the first week of February as the World NGO Week.
The first commemoration was celebrated in 2011 under the theme “Together we make a difference”. The celebrations included civic activities like street plays, music, and art-related presentations. They also consisted of seminars and campaigns for raising awareness about HIV/AIDS and Malaria.
Organisations celebrate World NGO Day by supporting an event promoting blood donation and participation in health. UNICEF has been promoting its World Blood Donor Day campaign since 2009 through social media and online resources such as Facebook and Twitter.

All Subjects Textbooks and Refreshers available

विश्व एन.जी.ओ. दिवस

विश्व एनजीओ दिवस 27 फरवरी को मनाया जाता है। इसे एनजीओ के लिए मान्यता और उत्सव के अंतरराष्ट्रीय दिवस के रूप में मनाया जाता है।
यह विचार संयुक्त राष्ट्र महासभा (यूएनजीए) के तहत एनजीओ समुदाय से आया, जिसने “स्थायी विकास लक्ष्यों को प्राप्त करने में गैर-सरकारी संगठनों के महत्व को मान्यता दी, विशेष रूप से आपदा लचीलापन के संबंध में।” वैश्विक चुनौतियों से निपटने में एनजीओ की महत्वपूर्ण भूमिका है जैसे विकास, स्वास्थ्य और पर्यावरण. वे सहस्राब्दी विकास लक्ष्यों (एमडीजी) और सतत विकास लक्ष्यों (एसडीजी) के स्वास्थ्य लक्ष्यों को प्राप्त करने और बनाए रखने में अपरिहार्य हैं।
कई स्वयंसेवक गैर सरकारी संगठनों में काम करते हैं क्योंकि वे उन्हें दुनिया के सबसे गरीब लोगों की उचित देखभाल में योगदान देने के साथ-साथ अपने समुदायों को बेहतर बनाने के अवसर के रूप में देखते हैं।
वैश्विक निजी क्षेत्र के विकास से गैर सरकारी संगठनों की वृद्धि हुई है और सुशासन को बनाए रखने और मजबूत करने में उनकी भूमिका बढ़ी है। इसके अलावा, संयुक्त राष्ट्र के सार्वजनिक सूचना विभाग (यूएनडीपीआई) के अनुसार, एनजीओ विकास लक्ष्यों को प्राप्त करने में प्रमुख भागीदार हैं क्योंकि उनके पास संसाधनों, विशेषज्ञता और रचनात्मकता की एक विस्तृत श्रृंखला है।
अंत में, आधे से अधिक एनजीओ स्थानीय स्तर पर काम करते हैं क्योंकि वे गरीबी और असमानता जैसी सामुदायिक समस्याओं का समाधान करते रहे हैं।
हम अंतर्राष्ट्रीय एनजीओ दिवस के इतिहास का पता वर्ष 2010 से लगा सकते हैं जब संयुक्त राष्ट्र महासभा ने फरवरी के पहले सप्ताह को विश्व एनजीओ सप्ताह के रूप में घोषित किया था।
पहला स्मरणोत्सव 2011 में “एक साथ मिलकर हम फर्क लाते हैं” थीम के तहत मनाया गया था। समारोह में नुक्कड़ नाटक, संगीत और कला से संबंधित प्रस्तुतियाँ जैसी नागरिक गतिविधियाँ शामिल थीं। इनमें एचआईवी/एड्स और मलेरिया के बारे में जागरूकता बढ़ाने के लिए सेमिनार और अभियान भी शामिल थे।
संगठन रक्तदान और स्वास्थ्य में भागीदारी को बढ़ावा देने वाले एक कार्यक्रम का समर्थन करके विश्व एनजीओ दिवस मनाते हैं। यूनिसेफ 2009 से सोशल मीडिया और फेसबुक और ट्विटर जैसे ऑनलाइन संसाधनों के माध्यम से अपने विश्व रक्तदाता दिवस अभियान को बढ़ावा दे रहा है।

All Subjects Textbooks and Refreshers available

Value yourself

A speaker started off his seminar by showing a $20 to the public. He asked the people “who wants this?” There was no surprise to see that all of them lifted their hands. He offered to give the money to one of them but insisted that he will do something to it.
He crumpled the paper money and showed it again to the crowd and repeated the question. Still, everyone raised the hands. He then put the money into the ground and stepped on it and then raised it again and offered it to the public.
The people gathered there still showed interest to take that money despite seeing how dirty the note was. He told the public” No matter what I did to this money, you all still wanted this.
You all went in favor of my offer just because the value of the money never decreased despite what all I did to it. Similarly, value yourself despite the painful conditions or failures”
Moral: Believe in yourself and work hard to achieve success. Value yourself irrespective of the failures or obstacles and don’t degrade yourself just because of the temporary setbacks. 

All Subjects Textbooks and Refreshers available

‘तेजस्वी बालक नरेंन्द्रनाथ’

स्वामी विवेकानंदजी जी को बचपन में सब लोग बिले नाम से पुकारते थे। बाद में नरेन्द्रनाथ दत्त कहलाये। नरेन्द्रनाथ बहुत उत्साही और तेजस्वी बालक थे। इस बालक को बचपन से ही संगीत, खेलकूद और मैदानी गतिविधियों में रुचि थी। नरेन्द्रनाथ बचपन से ही अध्यात्मिक प्रकृति के थे और यह खेल – खेल में राम, सीता, शिव आदि मूर्तियों की पूजा करने में रम जाते थे। इनकी माँ इन्हें हमेशा रामायण व महाभारत की कहानियां सुनाती थी जिसे नरेन्द्रनाथ खूब चाव से सुनते थे।
एक बार बनारस में स्वामी विवेकानंद जी माँ दुर्गा जी के मंदिर से निकल रहे थे कि तभी वहां पहले से मौजूद बहुत सारे बंदरों ने उन्हें घेर लिया। वे उनसे प्रसाद छिनने के लिए उनके नजदीक आने लगे। अपने तरफ आते देख कर स्वामी स्वामी जी बहुत भयभीत हो गए। खुद को  बचाने के लिए भागने लगे। पर वे बंदर तो पीछा छोड़ने को तैयार ही नहीं थे।  
पास में खड़ा एक वृद्ध संयासी ये सब देख रहा था, उन्होंने स्वामी जी को रोका और कहा – रुको ! डरो मत, उनका सामना करो और देखों कि क्या होता है। बृद्ध संयासी की बात सुनकर स्वामी जी में हिम्मत आ गई और तुरंत पलटे और बंदरों की तरफ बढ़ने लगे। तब उनके आश्चर्य का ठिकाना न रहा जब उनके सामना करने पर सभी बंदर भाग खड़े हुए थे। इस सलाह के लिए स्वामी जी ने बृद्ध संयासी को बहुत धन्यवाद दिया।
इस घटना से स्वामी जी को एक गंभीर शिक्षा मिली और कई सालों बाद उन्होंने एक सभा में इस घटना का जिक्र किया और कहा – यदि तुम कभी किसी चीज से भयभीत हो, तो उससे भागों मत, पलटो और सामना करों। वास्तव में, यदि हम अपने जीवन में आये समस्याओं का सामना करे तो यकीन मानिए बहुत सी समस्याओं का समाधान हो जायेगा।

All Subjects Textbooks and Refreshers available

Central Excise Day

Central Excise Day is celebrated to appreciate the work of the Central Board of Excise and Customs (CBIC). The CBIC works under the Department of Revenue, Ministry of Finance, Government of India. This organisation is concerned with collecting and managing affairs of customs, excise duties, etc.
The role of the CBIC is central to the smooth functioning of customs and excise duty collection. Central Excise Day is about acknowledging the important role of the CBIC.
entral Excise Day is celebrated on 24th February every year to honour the efforts of the Central Board of Indirect Taxes and Customs (CBIC). This day is about acknowledging the work of the CBEC members and motivating them to perform their duties with greater efficiency. Central Excise Day commemorates the Central Excise and Salt Act, which was passed on 24th February 1944.
On Central Excise Day, the contribution of the Central Excise department to the nation’s industrial development is highlighted.
The history of Central Excise Day can be traced back to 1944 when the Central Excise and Salt Act was passed by the government. Salt has been an important source of revenue for the government and has been collected in the form of transit tax, excise duty, and similar taxes. Central Excise Day commemorates the passing of this Act.
Before the Central Excise and Salt Act 1944, each state had its own method of tax collection and administration. The Act consolidated and streamlined the laws of central Excise and salt and made the revenue collection process more efficient. Central Excise Day marks this important Act and highlights its importance.

All Subjects Textbooks and Refreshers available

केंद्रीय उत्पाद शुल्क दिवस

केंद्रीय उत्पाद शुल्क दिवस केंद्रीय उत्पाद एवं सीमा शुल्क बोर्ड (सीबीआईसी) के काम की सराहना करने के लिए मनाया जाता है। सीबीआईसी भारत सरकार के वित्त मंत्रालय के राजस्व विभाग के तहत काम करता है। यह संगठन सीमा शुल्क, उत्पाद शुल्क आदि के संग्रह और प्रबंधन से संबंधित है।
सीमा शुल्क और उत्पाद शुल्क संग्रह के सुचारू कामकाज में सीबीआईसी की भूमिका केंद्रीय है। केंद्रीय उत्पाद शुल्क दिवस सीबीआईसी की महत्वपूर्ण भूमिका को स्वीकार करने के बारे में है।
केंद्रीय अप्रत्यक्ष कर और सीमा शुल्क बोर्ड (सीबीआईसी) के प्रयासों का सम्मान करने के लिए हर साल 24 फरवरी को केंद्रीय उत्पाद शुल्क दिवस मनाया जाता है। यह दिन सीबीईसी सदस्यों के काम को स्वीकार करने और उन्हें अपने कर्तव्यों को अधिक दक्षता के साथ करने के लिए प्रेरित करने के बारे में है। केंद्रीय उत्पाद शुल्क दिवस केंद्रीय उत्पाद शुल्क और नमक अधिनियम की याद दिलाता है, जिसे 24 फरवरी 1944 को पारित किया गया था।
केंद्रीय उत्पाद शुल्क दिवस पर देश के औद्योगिक विकास में केंद्रीय उत्पाद शुल्क विभाग के योगदान पर प्रकाश डाला जाता है।
केंद्रीय उत्पाद शुल्क दिवस का इतिहास 1944 में खोजा जा सकता है जब सरकार द्वारा केंद्रीय उत्पाद शुल्क और नमक अधिनियम पारित किया गया था। नमक सरकार के लिए राजस्व का एक महत्वपूर्ण स्रोत रहा है और इसे पारगमन कर, उत्पाद शुल्क और इसी तरह के करों के रूप में एकत्र किया गया है। केंद्रीय उत्पाद शुल्क दिवस इस अधिनियम के पारित होने की याद दिलाता है।
केंद्रीय उत्पाद शुल्क और नमक अधिनियम 1944 से पहले, प्रत्येक राज्य की कर संग्रह और प्रशासन की अपनी पद्धति थी। इस अधिनियम ने केंद्रीय उत्पाद शुल्क और नमक के कानूनों को समेकित और सुव्यवस्थित किया और राजस्व संग्रह प्रक्रिया को और अधिक कुशल बना दिया। केंद्रीय उत्पाद शुल्क दिवस इस महत्वपूर्ण अधिनियम को चिह्नित करता है और इसके महत्व पर प्रकाश डालता है।

All Subjects Textbooks and Refreshers available

All Subjects Textbooks and Refreshers available

World Thinking Day

World Thinking Day, formerly Thinking Day, is celebrated annually on 22 February by all Girl Guides and Girl Scouts. It is also celebrated by Scout and Guide organizations around the world.It is a day when they think about their “sisters” (and “brothers”) in all the countries of the world, the meaning of Guiding, and its global impact.
Most recently, World Association of Girl Guides and Girl Scouts has selected an important international issue as the theme for each year’s World Thinking Day, and selected a focus country from each of their five world regions. Girl Guides and Girl Scouts use these as an opportunity to study and appreciate other countries and cultures, and equally increase awareness and sensitivity on global concerns. Donations are collected for the Thinking Day Fund which supports projects to help Girl Guides and Scouts around the world.
22 February was chosen as it was the birthday of Scouting and Guiding founder Lord Robert Baden-Powell and of Lady Olave Baden-Powell, his wife and World Chief Guide. Other Scouts celebrate it as B.-P. Day or Founders’ Day. The conference delegates highlighted the need for a special international day when Girl Guides and Girl Scouts would think about the worldwide spread of Girl Guiding and Girl Scouting, and of all the Girl Guides and Girl Scouts around the world, giving them, their “sisters,” thanks and appreciation.
It was decided by the delegates that this day would be 22 February, the birthday of both Lord Baden-Powell, founder of the Boy Scout movement, and Lady Olave Baden-Powell, his wife and the World Chief Guide.
In 1999, at the 30th World Conference, held in Ireland, the name was changed from “Thinking Day” to “World Thinking Day”, to emphasize the global aspect of this special day.                            

All Subjects Textbooks and Refreshers available

विश्व चिंतन दिवस

विश्व चिंतन दिवस, पूर्व में चिंतन दिवस, सभी गर्ल गाइड और गर्ल स्काउट्स द्वारा प्रतिवर्ष 22 फरवरी को मनाया जाता है। यह दुनिया भर के स्काउट और गाइड संगठनों द्वारा भी मनाया जाता है। यह वह दिन है जब वे दुनिया के सभी देशों में अपनी “बहनों” (और “भाइयों”), गाइडिंग के अर्थ और इसके वैश्विक प्रभाव के बारे में सोचते हैं।
हाल ही में, वर्ल्ड एसोसिएशन ऑफ गर्ल गाइड्स एंड गर्ल स्काउट्स ने प्रत्येक वर्ष के विश्व चिंतन दिवस के विषय के रूप में एक महत्वपूर्ण अंतरराष्ट्रीय मुद्दे को चुना है, और अपने पांच विश्व क्षेत्रों में से प्रत्येक से एक फोकस देश का चयन किया है। गर्ल गाइड और गर्ल स्काउट्स इन्हें अन्य देशों और संस्कृतियों का अध्ययन करने और उनकी सराहना करने के अवसर के रूप में उपयोग करते हैं, और समान रूप से वैश्विक चिंताओं पर जागरूकता और संवेदनशीलता बढ़ाते हैं। थिंकिंग डे फंड के लिए दान एकत्र किया जाता है जो दुनिया भर में गर्ल गाइड और स्काउट्स की मदद के लिए परियोजनाओं का समर्थन करता है।
22 फरवरी को इसलिए चुना गया क्योंकि यह स्काउटिंग और गाइडिंग के संस्थापक लॉर्ड रॉबर्ट बेडेन-पॉवेल और उनकी पत्नी और विश्व मुख्य गाइड लेडी ओलेव बेडेन-पॉवेल का जन्मदिन था। अन्य स्काउट्स इसे बी.-पी. के रूप में मनाते हैं। दिवस या संस्थापक दिवस. सम्मेलन के प्रतिनिधियों ने एक विशेष अंतर्राष्ट्रीय दिवस की आवश्यकता पर प्रकाश डाला जब गर्ल गाइड और गर्ल स्काउट्स गर्ल गाइडिंग और गर्ल स्काउटिंग के दुनिया भर में प्रसार के बारे में सोचेंगे, और दुनिया भर में सभी गर्ल गाइड और गर्ल स्काउट्स को, उनकी “बहनों” को देने के बारे में सोचेंगे। “धन्यवाद और सराहना.
प्रतिनिधियों द्वारा यह निर्णय लिया गया कि यह दिन 22 फरवरी होगा, जो बॉय स्काउट आंदोलन के संस्थापक लॉर्ड बेडेन-पॉवेल और उनकी पत्नी और विश्व मुख्य गाइड लेडी ओलेव बेडेन-पॉवेल दोनों का जन्मदिन होगा।
1999 में, आयरलैंड में आयोजित 30वें विश्व सम्मेलन में, इस विशेष दिन के वैश्विक पहलू पर जोर देने के लिए इसका नाम “थिंकिंग डे” से बदलकर “वर्ल्ड थिंकिंग डे” कर दिया गया।

All Subjects Textbooks and Refreshers available

International Mother Language Day

International Mother Language Day recognizes that languages and multilingualism can advance inclusion and the Sustainable Development Goals’ focus on leaving no one behind.
It also emphasizes on UNESCO’s belief that “education, based on the first language or mother tongue, must begin from the early years as early childhood care and education is the foundation of learning.”
The event  aimed at supporting learning through multilingual education and multilingualism in our fast-changing global contexts and in crisis situations, including emergency contexts, as a major goal, among other key aspects.
This has been kept into consideration based on the United Nations International Decade of Indigenous Languages (2022-2032) for which, UNESCO is the lead agency.
Languages, with their complex implications for identity, communication, social integration, education and development, are of strategic importance for people and planet. Yet, due to globalization processes, they are increasingly under threat, or disappearing altogether.
Globally, 40 per cent of the population does not have access to education in a language they speak or understand
At least 43% of the estimated 6000 languages spoken in the world are endangered
Every two weeks, a language disappears, taking with it an entire cultural and intellectual heritage

All Subjects Textbooks and Refreshers available

अंतर्राष्ट्रीय मातृभाषा दिवस

अंतर्राष्ट्रीय मातृभाषा दिवस मानता है कि भाषाएँ और बहुभाषावाद समावेशन को आगे बढ़ा सकते हैं और सतत विकास लक्ष्यों का ध्यान किसी को पीछे न छोड़ने पर है।
यह यूनेस्को की इस मान्यता पर भी जोर देता है कि “पहली भाषा या मातृभाषा पर आधारित शिक्षा, प्रारंभिक वर्षों से शुरू होनी चाहिए क्योंकि प्रारंभिक बचपन की देखभाल और शिक्षा सीखने की नींव है।”
इस आयोजन का उद्देश्य हमारे तेजी से बदलते वैश्विक संदर्भों में और संकट की स्थितियों में, आपातकालीन संदर्भों सहित, अन्य प्रमुख पहलुओं के साथ एक प्रमुख लक्ष्य के रूप में बहुभाषी शिक्षा और बहुभाषावाद के माध्यम से सीखने का समर्थन करना है।
इसे संयुक्त राष्ट्र अंतर्राष्ट्रीय स्वदेशी भाषाओं के दशक (2022-2032) के आधार पर ध्यान में रखा गया है, जिसके लिए यूनेस्को प्रमुख एजेंसी है।
भाषाएँ, पहचान, संचार, सामाजिक एकीकरण, शिक्षा और विकास के लिए अपने जटिल निहितार्थों के साथ, लोगों और ग्रह के लिए रणनीतिक महत्व की हैं। फिर भी, वैश्वीकरण प्रक्रियाओं के कारण, वे तेजी से खतरे में हैं, या पूरी तरह से गायब हो रहे हैं।
विश्व स्तर पर, 40 प्रतिशत आबादी को उस भाषा में शिक्षा तक पहुंच नहीं है जिसे वे बोलते या समझते हैं
विश्व में बोली जाने वाली अनुमानित 6000 भाषाओं में से कम से कम 43% लुप्तप्राय हैं
हर दो सप्ताह में एक भाषा गायब हो जाती है, अपने साथ संपूर्ण सांस्कृतिक और बौद्धिक विरासत लेकर

All Subjects Textbooks and Refreshers available

Arunachal Pradesh Foundation Day

The word Arunachal Pradesh signifies the Land of Rising Sun in Sanskrit, which was founded on 20th February as the 24th state of India. It was established as a separate state along with the state of Mizoram under the 55th Amendment Act of the Indian Constitution 1986. Arunachal Pradesh is situated in the extreme northern part of the country. After India got independence in 1947, Arunachal Pradesh was known as the North-East Frontier Agency (NEFA), administered by the state of Assam.
In 1972, NEFA was born as the Union Territory and a significant part of it was named Arunachal Pradesh.
With the Northeast Areas (Reorganisation) Act 1971, the region was renamed Arunachal Pradesh and provided a Union Territory status.
The Act led to the forming of the northeastern states like Manipur, Meghalaya, and Tripura in Arunachal Pradesh under the supervision of the chief commissioner.Around 1975, the council of ministers was made for the Union Territory.Around February 20, 1987, the state got established as full-fledged by becoming the 25th state of Union India.
The state shares its borders with the Himalayas with Bhutan in the west, Tibet in the north, Myanmar and Nagaland in the south and southeast, and Assam in the south and southwest.

All Subjects Textbooks and Refreshers available

अरुणाचल प्रदेश स्थापना दिवस

अरुणाचल प्रदेश शब्द संस्कृत में उगते सूरज की भूमि को दर्शाता है, जिसकी स्थापना 20 फरवरी को भारत के 24वें राज्य के रूप में की गई थी। इसे भारतीय संविधान के 55वें संशोधन अधिनियम 1986 के तहत मिजोरम राज्य के साथ एक अलग राज्य के रूप में स्थापित किया गया था। अरुणाचल प्रदेश देश के सुदूर उत्तरी भाग में स्थित है। 1947 में भारत को आजादी मिलने के बाद, अरुणाचल प्रदेश को असम राज्य द्वारा प्रशासित नॉर्थ-ईस्ट फ्रंटियर एजेंसी (एनईएफए) के रूप में जाना जाता था।
1972 में, NEFA का जन्म केंद्र शासित प्रदेश के रूप में हुआ और इसके एक महत्वपूर्ण हिस्से का नाम अरुणाचल प्रदेश रखा गया।
पूर्वोत्तर क्षेत्र (पुनर्गठन) अधिनियम 1971 के साथ, इस क्षेत्र का नाम बदलकर अरुणाचल प्रदेश कर दिया गया और केंद्र शासित प्रदेश का दर्जा प्रदान किया गया।
इस अधिनियम के कारण मुख्य आयुक्त की देखरेख में अरुणाचल प्रदेश में मणिपुर, मेघालय और त्रिपुरा जैसे पूर्वोत्तर राज्यों का गठन हुआ। 1975 के आसपास, केंद्र शासित प्रदेश के लिए मंत्रिपरिषद बनाई गई। 20 फरवरी, 1987 के आसपास, राज्य संघ भारत का 25वां राज्य बनकर पूर्ण रूप से स्थापित हुआ।
राज्य की सीमाएँ हिमालय से पश्चिम में भूटान, उत्तर में तिब्बत, दक्षिण और दक्षिण-पूर्व में म्यांमार और नागालैंड और दक्षिण और दक्षिण-पश्चिम में असम से लगती हैं।

All Subjects Textbooks and Refreshers available

All Subjects Textbooks and Refreshers available

Taj Mahotsav

  1. It is a 10-day cultural festival, held in Agra each year.It is the most well-known art, craft, gourmet, and culture festival, held at the crossroads of winter and spring.The Taj Mahotsav started in 1992.
    It is held with the aim of encouraging craftsmen’s innovative work and assisting them in showcasing their various skills.
    The Taj Mahotsav is a melting pot of traditions and civilizations, because of a variety of cultural performances by domestic and international artists. It seeks to inspire tourism and also reviving the Nawabi style, which dominated terrain of Uttar Pradesh in the 18th and 19th centuries. It reflects the richness of India’s craftwork, artistry, cuisines and culture. It is also a must-visit for shoppers.
    Under the Taj Mahotsav festival, a vibrant and appealing carnival for children. At this, people of all ages enjoy the celebration. Taj Mahotsav offers visitors a variety of classical, indigenous, and other art genres. It honours remarkable work of artists in India. There is a diverse selection of art, including delectable cuisine, eye-catching artworks, dance, and music.
    One of the main goals of Taj Mahotsav is to provide a forum for local artisans to display their talents.
    Taj Mahotsav 2022 will be held at Shilpgram, which is a well-known handicraft village in Agra, Uttar Pradesh. It is located at about 500 metres from the Taj Mahal.

All Subjects Textbooks and Refreshers available

Taj Mahotsav

  1. It is a 10-day cultural festival, held in Agra each year.It is the most well-known art, craft, gourmet, and culture festival, held at the crossroads of winter and spring.The Taj Mahotsav started in 1992.
    It is held with the aim of encouraging craftsmen’s innovative work and assisting them in showcasing their various skills.
    The Taj Mahotsav is a melting pot of traditions and civilizations, because of a variety of cultural performances by domestic and international artists. It seeks to inspire tourism and also reviving the Nawabi style, which dominated terrain of Uttar Pradesh in the 18th and 19th centuries. It reflects the richness of India’s craftwork, artistry, cuisines and culture. It is also a must-visit for shoppers.
    Under the Taj Mahotsav festival, a vibrant and appealing carnival for children. At this, people of all ages enjoy the celebration. Taj Mahotsav offers visitors a variety of classical, indigenous, and other art genres. It honours remarkable work of artists in India. There is a diverse selection of art, including delectable cuisine, eye-catching artworks, dance, and music.
    One of the main goals of Taj Mahotsav is to provide a forum for local artisans to display their talents.
    Taj Mahotsav 2022 will be held at Shilpgram, which is a well-known handicraft village in Agra, Uttar Pradesh. It is located at about 500 metres from the Taj Mahal.

All Subjects Textbooks and Refreshers available

ताज महोत्सव

  1. यह 10 दिवसीय सांस्कृतिक उत्सव है, जो हर साल आगरा में आयोजित किया जाता है। यह सबसे प्रसिद्ध कला, शिल्प, स्वादिष्ट और संस्कृति उत्सव है, जो सर्दियों और वसंत के चौराहे पर आयोजित किया जाता है। ताज महोत्सव 1992 में शुरू हुआ था।
    इसका आयोजन कारीगरों के नवोन्मेषी कार्यों को प्रोत्साहित करने और उन्हें अपने विभिन्न कौशल प्रदर्शित करने में सहायता करने के उद्देश्य से किया जाता है।
    ताज महोत्सव घरेलू और अंतर्राष्ट्रीय कलाकारों द्वारा विभिन्न प्रकार के सांस्कृतिक प्रदर्शनों के कारण परंपराओं और सभ्यताओं का मिश्रण है। इसका उद्देश्य पर्यटन को प्रेरित करना और नवाबी शैली को पुनर्जीवित करना है, जो 18वीं और 19वीं शताब्दी में उत्तर प्रदेश के भूभाग पर हावी थी। यह भारत की शिल्पकला, कलात्मकता, व्यंजन और संस्कृति की समृद्धि को दर्शाता है। खरीददारों के लिए भी यह एक जरूरी यात्रा है।
    ताज महोत्सव उत्सव के अंतर्गत बच्चों के लिए एक जीवंत और आकर्षक कार्निवल। इसमें हर उम्र के लोग जश्न का लुत्फ उठाते हैं. ताज महोत्सव आगंतुकों को विभिन्न प्रकार की शास्त्रीय, स्वदेशी और अन्य कला शैलियों की पेशकश करता है। यह भारत में कलाकारों के उल्लेखनीय कार्य का सम्मान करता है। यहां कला का विविध चयन है, जिसमें स्वादिष्ट व्यंजन, आकर्षक कलाकृतियां, नृत्य और संगीत शामिल हैं।
    ताज महोत्सव का एक मुख्य लक्ष्य स्थानीय कारीगरों को अपनी प्रतिभा प्रदर्शित करने के लिए एक मंच प्रदान करना है।
    ताज महोत्सव 2022 शिल्पग्राम में आयोजित किया जाएगा, जो उत्तर प्रदेश के आगरा में एक प्रसिद्ध हस्तशिल्प गांव है। यह ताज महल से लगभग 500 मीटर की दूरी पर स्थित है।

All Subjects Textbooks and Refreshers available

February Poem

  1. I’m Not Just February
    by Annette Wynne
    I’m not just February
    With winds that blow
    All day, and piled-up snow;
    I’m Washington and Lincoln, too,
    Who kept our country’s flag for you!
    I’m Valentine of airy grace—
    With golden hearts and hearts of lace
    And pretty cards that people send,
    Quite as a secret, to a friend.
    Though I am short of days and small,
    I’m quite a big month, after all!

All Subjects Textbooks and Refreshers available

कविता

  1. शरद ऋतु के आगमन संग
    घास-फूस पत्ते झाड़ियों में,
    रजत वर्ण ऊन की चादर ओढ़े
    दिखते खेत खलिहान बड़ियों में।
    रात सुहानी हैं होती ओस की बौछार,
    दीपोत्सव के संग होते हैं अनेक त्यौहार।
    मन उपवन शांत पर थोड़ा चंचल भी,
    शरद ऋतु संग धरा का हुआ शृंगार।
    अल सुबह घनघोर कोहरा छाया है,
    नवरूप के संग विविध सुमन भाया हैं।
    कड़कड़ाती ठंड में आती सुहानी बयार,
    कंबल, रजाई की बारी, शरद ऋतु आया हैं।

All Subjects Textbooks and Refreshers available

Random Acts of Kindness Week

  1. On the second week of February, people all over the world celebrate Random Acts of Kindness Week by striving to make kindness an inspirational aspect of people’s lives. For those that value kindness, Random Acts of Kindness Week encourages people out there to be loud about how easy it is to give to others. This holiday centers around making kindness a standard for others to follow to make society a better place to live in.
    This week is all about showing appreciation for those around you, seeing others in need and taking action, and instilling kindness in today’s youth so the future can look a little brighter.
    History of Random Acts of Kindness Week
    Officially started through the Random Acts of Kindness organization, this holiday lets people give back to others through random acts, whether that be taking a trip to Africa to feed the poor, show support for cancer patients, or helping someone on the road fix their flat tires.
    RAK, a non-profit organization, located in Denver, Colorado, consists of a small team that works hard to inspire others. RAK offers resources for those wishing to participate during the week, including school programs, calendars, videos, and training materials.
    According to RAK’s website, the whole week is dedicated to these acts of kindness, while the highlight of their celebrations occurs on Random Acts of Kindness Day, which is where all those acts of kindness become louder than ever.
    Those wishing to take part in the celebration can become activists and educators, those who lead by example and teach others about kindness, hoping to inspire others to do the same and make society a better place to live in.
    Becoming an activist means building trust, focusing their efforts on kindness strategies and creating environments for growth and nurturing the future of selfless acts.

All Subjects Textbooks and Refreshers available

Random Acts of Kindness Week

  1. On the second week of February, people all over the world celebrate Random Acts of Kindness Week by striving to make kindness an inspirational aspect of people’s lives. For those that value kindness, Random Acts of Kindness Week encourages people out there to be loud about how easy it is to give to others. This holiday centers around making kindness a standard for others to follow to make society a better place to live in.
    This week is all about showing appreciation for those around you, seeing others in need and taking action, and instilling kindness in today’s youth so the future can look a little brighter.
    History of Random Acts of Kindness Week
    Officially started through the Random Acts of Kindness organization, this holiday lets people give back to others through random acts, whether that be taking a trip to Africa to feed the poor, show support for cancer patients, or helping someone on the road fix their flat tires.
    RAK, a non-profit organization, located in Denver, Colorado, consists of a small team that works hard to inspire others. RAK offers resources for those wishing to participate during the week, including school programs, calendars, videos, and training materials.
    According to RAK’s website, the whole week is dedicated to these acts of kindness, while the highlight of their celebrations occurs on Random Acts of Kindness Day, which is where all those acts of kindness become louder than ever.
    Those wishing to take part in the celebration can become activists and educators, those who lead by example and teach others about kindness, hoping to inspire others to do the same and make society a better place to live in.
    Becoming an activist means building trust, focusing their efforts on kindness strategies and creating environments for growth and nurturing the future of selfless acts.

All Subjects Textbooks and Refreshers available

International Epilepsy Day

  1. International Epilepsy Day, celebrated each year on the 2nd Monday of February, is an opportunity to raise awareness of epilepsy, what it is, how it can be treated, and what is needed to bring treatment to all people who need it.
    The ability of health workers to diagnose epilepsy, the availability of medicines and research into the health and social care response to epilepsy are just three areas of action for WHO and partners.Started in 2015 and organized by the International Bureau for Epilepsy (IBE) and the International League Against Epilepsy (ILAE), the day provides a platform for people with epilepsy to share their experiences and stories with a global audience. The day also calls for all people to advocate for appropriate legislation that will guarantee human rights of people with epilepsy and encourages people with epilepsy to live to their fullest potential. The Epilepsy Foundation is a full member of IBE.
    Despite being one of the world’s oldest known medical conditions, public fear and misunderstanding about epilepsy persist, making many people reluctant to talk about it. That reluctance leads to lives lived in the shadows, lack of understanding about individual risk, discrimination in workplaces and communities, and a lack of funding for new therapies research. People with epilepsy die prematurely at a higher rate compared to the general population. The most common cause of death from epilepsy is sudden unexpected death in epilepsy, known as SUDEP. For many people living with epilepsy, the misconceptions and discrimination can be more difficult to overcome than the seizures themselves.
    International Epilepsy Day seeks to raise awareness and educate the general public on the true facts about epilepsy and the urgent need for improved treatment, better care, and greater investment in research.                                             

All Subjects Textbooks and Refreshers available

अंतर्राष्ट्रीय मिर्गी दिवस

  1. अंतर्राष्ट्रीय मिर्गी दिवस, हर साल फरवरी के दूसरे सोमवार को मनाया जाता है, यह मिर्गी के बारे में जागरूकता बढ़ाने का एक अवसर है, यह क्या है, इसका इलाज कैसे किया जा सकता है, और उन सभी लोगों तक उपचार पहुंचाने के लिए क्या आवश्यक है जिन्हें इसकी आवश्यकता है।
    मिर्गी का निदान करने के लिए स्वास्थ्य कार्यकर्ताओं की क्षमता, दवाओं की उपलब्धता और मिर्गी के लिए स्वास्थ्य और सामाजिक देखभाल प्रतिक्रिया में अनुसंधान डब्ल्यूएचओ और भागीदारों के लिए कार्रवाई के सिर्फ तीन क्षेत्र हैं। 2015 में शुरू किया गया और मिर्गी के लिए अंतर्राष्ट्रीय ब्यूरो (आईबीई) द्वारा आयोजित किया गया और इंटरनेशनल लीग अगेंस्ट एपिलेप्सी (ILAE), यह दिन मिर्गी से पीड़ित लोगों को अपने अनुभव और कहानियों को वैश्विक दर्शकों के साथ साझा करने के लिए एक मंच प्रदान करता है। यह दिन सभी लोगों से उचित कानून की वकालत करने का भी आह्वान करता है जो मिर्गी से पीड़ित लोगों के मानवाधिकारों की गारंटी देगा और मिर्गी से पीड़ित लोगों को उनकी पूरी क्षमता से जीने के लिए प्रोत्साहित करेगा। एपिलेप्सी फाउंडेशन आईबीई का पूर्ण सदस्य है।
    दुनिया की सबसे पुरानी ज्ञात चिकित्सीय स्थितियों में से एक होने के बावजूद, मिर्गी के बारे में लोगों में डर और गलतफहमी बनी रहती है, जिससे कई लोग इसके बारे में बात करने से कतराते हैं। यह अनिच्छा जीवन को छाया में जीने, व्यक्तिगत जोखिम के बारे में समझ की कमी, कार्यस्थलों और समुदायों में भेदभाव और नए उपचार अनुसंधान के लिए धन की कमी की ओर ले जाती है। सामान्य आबादी की तुलना में मिर्गी से पीड़ित लोगों की समय से पहले मृत्यु दर अधिक होती है। मिर्गी से मृत्यु का सबसे आम कारण मिर्गी में अचानक अप्रत्याशित मृत्यु है, जिसे SUDEP के नाम से जाना जाता है। मिर्गी से पीड़ित कई लोगों के लिए, मिर्गी के दौरे की तुलना में गलतफहमी और भेदभाव पर काबू पाना अधिक कठिन हो सकता है।
    अंतर्राष्ट्रीय मिर्गी दिवस मिर्गी के बारे में सही तथ्यों और बेहतर उपचार, बेहतर देखभाल और अनुसंधान में अधिक निवेश की तत्काल आवश्यकता के बारे में जागरूकता बढ़ाने और आम जनता को शिक्षित करने का प्रयास करता है।

All Subjects Textbooks and Refreshers available

World Radio Day

  1. World Radio Day is celebrated to mark the significance of the radio – a device that is much more than just a broadcasting platform. It has been used as the most trusted source of news for decades. To celebrate the contribution of radio to our society, UNESCO has designated 13 February as World Radio Day.
    The first World Radio Day was celebrated in 2012 and since then, it has become a global phenomenon. People from all over the world celebrate this day by participating in events and spreading awareness about the importance of radios.
    The history of Radio Day can be traced back to 2011 when UNESCO and the United Nations General Assembly established this day. The date 13 February was chosen for the celebration of this day by UNESCO in 2011, at their 36th conference. On the same day in 1946, the United Nation’s international broadcasting service was established.
    World Radio Day reminds us of the importance of the radio and what we have achieved with it. Now that we have television, social media, and well-development modes of communication all over the world, we often forget how far we have come in such a short time. However, World Radio Day reminds us that the radio has always been an important medium of communication.
    We celebrate World Radio Day to acknowledge the fact that the radio has played a significant role in our previous generations and will continue to do the same in the future despite the rise of modern technology.
                                                 

All Subjects Textbooks and Refreshers available

विश्व रेडियो दिवस

  1. विश्व रेडियो दिवस रेडियो के महत्व को चिह्नित करने के लिए मनाया जाता है – एक ऐसा उपकरण जो सिर्फ एक प्रसारण मंच से कहीं अधिक है। इसका उपयोग दशकों से समाचार के सबसे भरोसेमंद स्रोत के रूप में किया जाता रहा है। हमारे समाज में रेडियो के योगदान का जश्न मनाने के लिए, यूनेस्को ने 13 फरवरी को विश्व रेडियो दिवस के रूप में नामित किया है।
    पहला विश्व रेडियो दिवस 2012 में मनाया गया था और तब से यह एक वैश्विक घटना बन गई है। दुनिया भर से लोग इस दिन को कार्यक्रमों में भाग लेकर और रेडियो के महत्व के बारे में जागरूकता फैलाकर मनाते हैं।
    रेडियो दिवस का इतिहास 2011 में खोजा जा सकता है जब यूनेस्को और संयुक्त राष्ट्र महासभा ने इस दिन की स्थापना की थी। यूनेस्को द्वारा 2011 में अपने 36वें सम्मेलन में इस दिन को मनाने के लिए 13 फरवरी की तारीख को चुना गया था। 1946 में इसी दिन संयुक्त राष्ट्र की अंतर्राष्ट्रीय प्रसारण सेवा की स्थापना हुई थी।
    विश्व रेडियो दिवस हमें रेडियो के महत्व और हमने इससे क्या हासिल किया है, इसकी याद दिलाता है। अब जबकि हमारे पास टेलीविजन, सोशल मीडिया और दुनिया भर में संचार के विकसित साधन हैं, हम अक्सर भूल जाते हैं कि हम इतने कम समय में कितनी दूर आ गए हैं। हालाँकि, विश्व रेडियो दिवस हमें याद दिलाता है कि रेडियो हमेशा संचार का एक महत्वपूर्ण माध्यम रहा है।
    हम इस तथ्य को स्वीकार करने के लिए विश्व रेडियो दिवस मनाते हैं कि रेडियो ने हमारी पिछली पीढ़ियों में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है और आधुनिक तकनीक के उदय के बावजूद भविष्य में भी ऐसा ही करता रहेगा।

All Subjects Textbooks and Refreshers available

National Productivity Day

  1. National Productivity Day is a day dedicated to acknowledging the importance of building good productivity habits. It is a day observed in India on 12 February every year. This day was introduced by the National Productivity Council, Government of India to promote productivity among the citizens.
    National Productivity Day is a day to reflect on how you can improve your productivity. It can also be a day to encourage others to build healthy productivity habits as well. National Productivity Day also highlights that working on your productivity can increase the overall quality of your work.
    National Productivity Day was established by the National Productivity Council (NPC). It is a national organisation in India that promotes production. National Productivity Council comes under the Government of India and was founded in 1958. It is a non-profit organisation that is independent, multipartite, and registered under the Societies Registration Act XXI of 1860.
    NPC is also a member of the Asian Productivity Organisation (APO), a Tokyo-based Inter-Governmental Organization of which the Government of India is a founding member. The National Productivity Council offers a solution to help improve productivity, competitiveness, revenues, safety, and quality. National Productivity Day aims to increase awareness about the importance of productivity, innovation, and efficiency. It is critical to raise awareness on productivity to maximise production while maximising resource utilisation. The goal of National Productivity Day and National Productivity Week is to raise awareness about the importance of improving quality, efficiency, and competitiveness in all areas of the Indian economy so that India may become a global leader.
    The events held on National Productivity Day also aim to promote productivity as a “developing notion” beyond simply boosting output. The NPC wants to emphasise productivity as a holistic concept that considers issues like the environment, quality, and human resource development, among other things.

All Subjects Textbooks and Refreshers available

राष्ट्रीय उत्पादकता दिवस

  1. राष्ट्रीय उत्पादकता दिवस अच्छी उत्पादकता आदतों के निर्माण के महत्व को स्वीकार करने के लिए समर्पित एक दिन है। यह भारत में हर साल 12 फरवरी को मनाया जाने वाला दिन है। इस दिन की शुरुआत भारत सरकार की राष्ट्रीय उत्पादकता परिषद द्वारा नागरिकों के बीच उत्पादकता को बढ़ावा देने के लिए की गई थी।
    राष्ट्रीय उत्पादकता दिवस इस बात पर विचार करने का दिन है कि आप अपनी उत्पादकता कैसे सुधार सकते हैं। यह दूसरों को भी स्वस्थ उत्पादकता की आदतें बनाने के लिए प्रोत्साहित करने का दिन हो सकता है। राष्ट्रीय उत्पादकता दिवस इस बात पर भी प्रकाश डालता है कि अपनी उत्पादकता पर काम करने से आपके काम की समग्र गुणवत्ता बढ़ सकती है।
    राष्ट्रीय उत्पादकता दिवस की स्थापना राष्ट्रीय उत्पादकता परिषद (एनपीसी) द्वारा की गई थी। यह भारत में एक राष्ट्रीय संगठन है जो उत्पादन को बढ़ावा देता है। राष्ट्रीय उत्पादकता परिषद भारत सरकार के अधीन आती है और इसकी स्थापना 1958 में हुई थी। यह एक गैर-लाभकारी संगठन है जो स्वतंत्र, बहुपक्षीय है और 1860 के सोसायटी पंजीकरण अधिनियम XXI के तहत पंजीकृत है।
    एनपीसी एशियाई उत्पादकता संगठन (एपीओ) का भी सदस्य है, जो टोक्यो स्थित एक अंतर-सरकारी संगठन है, जिसकी भारत सरकार संस्थापक सदस्य है। राष्ट्रीय उत्पादकता परिषद उत्पादकता, प्रतिस्पर्धात्मकता, राजस्व, सुरक्षा और गुणवत्ता में सुधार करने में मदद के लिए एक समाधान प्रदान करती है। राष्ट्रीय उत्पादकता दिवस का उद्देश्य उत्पादकता, नवाचार और दक्षता के महत्व के बारे में जागरूकता बढ़ाना है। संसाधनों का अधिकतम उपयोग करते हुए उत्पादन को अधिकतम करने के लिए उत्पादकता पर जागरूकता बढ़ाना महत्वपूर्ण है। राष्ट्रीय उत्पादकता दिवस और राष्ट्रीय उत्पादकता सप्ताह का लक्ष्य भारतीय अर्थव्यवस्था के सभी क्षेत्रों में गुणवत्ता, दक्षता और प्रतिस्पर्धात्मकता में सुधार के महत्व के बारे में जागरूकता बढ़ाना है ताकि भारत एक वैश्विक नेता बन सके।
    राष्ट्रीय उत्पादकता दिवस पर आयोजित कार्यक्रमों का उद्देश्य केवल उत्पादन को बढ़ावा देने से परे “विकासशील धारणा” के रूप में उत्पादकता को बढ़ावा देना है। एनपीसी एक समग्र अवधारणा के रूप में उत्पादकता पर जोर देना चाहता है जो अन्य चीजों के अलावा पर्यावरण, गुणवत्ता और मानव संसाधन विकास जैसे मुद्दों पर विचार करता है।

All Subjects Textbooks and Refreshers available

National Deworming Day

  1. National Deworming Day is conducted in all the states and union territories on February 10 every year to create awareness about children’s immunity and health.
    The Ministry of Health and Family Welfare initiated the movement in collaboration with the Ministry of Women and Child Development, Department of School Education and Literacy (under Ministry of Human Resource Development), Ministry of Drinking Water and Sanitation, and the Ministry of Panchayati Raj in 2015.
    National Deworming Day is one of the largest public health programs reaching many children in a short period.
    The objective of National Deworming Day is to deworm all children through the platform of schools and Anganwadi centres to improve their immunity, overall health, nutritional status, access to education and quality of life.
    According to World Health Organization, over 240 million children between the ages of 1 and 14 years are at risk of parasitic intestinal worms in India, also known as Soil-Transmitted Helminths (STH).
    Worms that typically infect people include roundworms (Ascaris lumbricoides), whipworms (Trichuris trichiura) and hookworms (Necator americanus and Ancylostoma duodenale).
    STH transmissions can occur through various sources, such as ingestion of vegetables that are not carefully cooked, washed or peeled. It can also occur from contaminated water sources.

All Subjects Textbooks and Refreshers available

राष्ट्रीय कृमि मुक्ति दिवस

  1. बच्चों की रोग प्रतिरोधक क्षमता और स्वास्थ्य के बारे में जागरूकता पैदा करने के लिए हर साल 10 फरवरी को सभी राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों में राष्ट्रीय कृमि निवारण दिवस आयोजित किया जाता है।
    स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय ने महिला और बाल विकास मंत्रालय, स्कूल शिक्षा और साक्षरता विभाग (मानव संसाधन विकास मंत्रालय के तहत), पेयजल और स्वच्छता मंत्रालय और पंचायती राज मंत्रालय के साथ मिलकर इस आंदोलन की शुरुआत की। 2015.
    राष्ट्रीय कृमि मुक्ति दिवस सबसे बड़े सार्वजनिक स्वास्थ्य कार्यक्रमों में से एक है जो कम समय में कई बच्चों तक पहुँचता है।
    राष्ट्रीय कृमि मुक्ति दिवस का उद्देश्य स्कूलों और आंगनवाड़ी केंद्रों के मंच के माध्यम से सभी बच्चों को कृमि मुक्त करना है ताकि उनकी प्रतिरक्षा, समग्र स्वास्थ्य, पोषण स्थिति, शिक्षा तक पहुंच और जीवन की गुणवत्ता में सुधार हो सके।
    विश्व स्वास्थ्य संगठन के अनुसार, भारत में 1 से 14 वर्ष की आयु के 240 मिलियन से अधिक बच्चों को परजीवी आंतों के कीड़ों का खतरा है, जिन्हें मृदा-संचारित हेल्मिंथ (एसटीएच) भी कहा जाता है।
    आम तौर पर लोगों को संक्रमित करने वाले कृमियों में राउंडवॉर्म (एस्करिस लुम्ब्रिकोइड्स), व्हिपवर्म (ट्राइचुरिस ट्राइचिउरा) और हुकवर्म (नेकेटर अमेरिकन और एंकिलोस्टोमा डुओडेनेल) शामिल हैं।
    एसटीएच संचरण विभिन्न स्रोतों के माध्यम से हो सकता है, जैसे कि सब्जियों का अंतर्ग्रहण जो सावधानीपूर्वक पकाया नहीं गया है, धोया नहीं गया है या छीला नहीं गया है। यह दूषित जल स्रोतों से भी हो सकता है।

All Subjects Textbooks and Refreshers available

Sharpen your ‘axe’

  1.  There was a newly joined woodcutter and the king was really impressed by his dedication towards his work. Out of encouragement, he started giving his best in work and cut 18 trees in the first month and the king was glad.
    The next month he put in the same effort but could cut only 15 trees. And the third month, he still tried his best but could cut only 12 trees. The king visited him the third month and talked about his decrease in productivity.
    He explained that he might have lost his strength or got too old to do the work. The king asked him “when was the last time you sharpened your ax?” To the surprise, he has not even done it once in the last three months. That was the only reason why he couldn’t cut more trees.
    Moral: It is good that you put in a lot of effort and hard work to work towards your goals. But you should balance your life priorities and invest time with your family and save some time to relax which would boost up your productivity.
    These are just a few among the many motivational stories that guide students to work hard on many aspects of life and grow successful. Such inspirational stories can help students to keep moral values in life despite whatever life offers them.

All Subjects Textbooks and Refreshers available

प्रेरक प्रसंग – ‘कर्तव्य’

  1. एक समय की बात है । एक नदी में एक महात्मा स्नान कर रहे थे । तभी एक बिच्छू जो पानी में डूब रहा था, उसे बचाते हुए बिच्छु ने महात्मा को डंक मार दिया ।
    महात्मा ने उसे कई बार बचाने की कोशिश की । बिच्छू ने उन्हें बार – बार डंक मारा । अंतत: महात्मा ने उसे बचाकर नदी के किनारे रख दिया । थोड़ी दूर खड़े यह सब महात्मा के शिष्य देख रहे थे । जैसे ही वे नदी से बाहर आये तो शिष्यों ने पूछा कि जब वह बिच्छू आपको बार – बार डंक मार रहा था तो आपको उसे बचाने की क्या आवश्यकता थी ।
    तब महात्मा ने कहा – बिच्छू एक छोटा जीव है, उसका कर्म काटना है, जब वह अपना कर्तव्य नहीं भूला, तो मैं मनुष्य हूँ मेरा कर्तव्य दया करना है तो मैं अपना कर्तव्य कैसे भूल सकता हूँ ।
    कर्तव्य की कहानी से सीख Moral Of Kartvya Ki Kahani : इस कहानी से यह शिक्षा मिलती है कि मार्ग कितना भी कठिन क्यों न हों  मनुष्य को कभी अपना कर्तव्य नहीं भूलना चाहिए 

All Subjects Textbooks and Refreshers available

Safer Internet Day

  1. Safer Internet Day is a day marked out to highlight the importance of creating a safer and more responsible internet environment. The idea is to ensure that users browse the internet securely, without exposing themselves to cyber risks. This year, the 20th edition of Safer Internet Day will be celebrated around the world.
    The initiative for organizing Safer Internet Day is taken by Insafe, an organization that has multiple Awareness Centres around the world that help people realize the importance of prioritizing internet safety. Safer Internet Day is observed on the second day of the second week of February every year to emphasise the importance of building a safer and more responsible internet. This day is organized by Insafe, an organization that promotes safer usage of the internet. This year, Safer Internet Day will be celebrated on 7 February 2023.
    As the internet has become part of our daily lives, it is up to us to ensure that it remains a safe space for everyone. Through initiatives such as Safer Internet Day, the need to prioritize internet usage safety can be highlighted.
    In the digital age, building a secure online environment is a must and Safer Internet Day is a significant initiative for the same. With so many transactions, functions and communications taking place online and with so many young people using social media and other online platforms, internet safety is a priority concern.

All Subjects Textbooks and Refreshers available

सुरक्षित इंटरनेट दिवस

  1. सुरक्षित इंटरनेट दिवस एक सुरक्षित और अधिक जिम्मेदार इंटरनेट वातावरण बनाने के महत्व को उजागर करने के लिए मनाया जाने वाला दिन है। विचार यह सुनिश्चित करना है कि उपयोगकर्ता साइबर जोखिमों के संपर्क में आए बिना, सुरक्षित रूप से इंटरनेट ब्राउज़ करें। इस वर्ष दुनिया भर में सुरक्षित इंटरनेट दिवस का 20वां संस्करण मनाया जाएगा।
    सुरक्षित इंटरनेट दिवस के आयोजन की पहल इनसेफ नामक संगठन द्वारा की गई है, जिसके दुनिया भर में कई जागरूकता केंद्र हैं जो लोगों को इंटरनेट सुरक्षा को प्राथमिकता देने के महत्व का एहसास कराने में मदद करते हैं। सुरक्षित और अधिक जिम्मेदार इंटरनेट के निर्माण के महत्व पर जोर देने के लिए हर साल फरवरी के दूसरे सप्ताह के दूसरे दिन सुरक्षित इंटरनेट दिवस मनाया जाता है। इस दिन का आयोजन इंटरनेट के सुरक्षित उपयोग को बढ़ावा देने वाली संस्था इनसेफ द्वारा किया जाता है। इस वर्ष सुरक्षित इंटरनेट दिवस 7 फरवरी 2023 को मनाया जाएगा।
    चूंकि इंटरनेट हमारे दैनिक जीवन का हिस्सा बन गया है, इसलिए यह सुनिश्चित करना हमारे ऊपर है कि यह सभी के लिए एक सुरक्षित स्थान बना रहे। सुरक्षित इंटरनेट दिवस जैसी पहल के माध्यम से, इंटरनेट उपयोग सुरक्षा को प्राथमिकता देने की आवश्यकता पर प्रकाश डाला जा सकता है।
    डिजिटल युग में, एक सुरक्षित ऑनलाइन वातावरण बनाना आवश्यक है और सुरक्षित इंटरनेट दिवस उसी के लिए एक महत्वपूर्ण पहल है। इतने सारे लेन-देन, कार्य और संचार ऑनलाइन होने और इतने सारे युवाओं द्वारा सोशल मीडिया और अन्य ऑनलाइन प्लेटफ़ॉर्म का उपयोग करने के साथ, इंटरनेट सुरक्षा एक प्राथमिकता चिंता का विषय है।

All Subjects Textbooks and Refreshers available

प्रेरक प्रसंग -‘संगत का असर’

  1. एक अध्यापक अपने शिष्यों के साथ घूमने जा रहे थे । रास्ते में वे अपने शिष्यों के अच्छी संगत की महिमा समझा रहे थे । लेकिन शिष्य इसे समझ नहीं पा रहे थे । तभी अध्यापक ने फूलों से भरा एक गुलाब का पौधा देखा । उन्होंने एक शिष्य को उस पौधे के नीचे से तत्काल एक मिट्टी का ढेला उठाकर ले आने को  कहा ।
    जब शिष्य ढेला उठा लाया तो अध्यापक बोले – “ इसे अब सूंघो ।”
    शिष्य ने ढेला सूंघा और बोला – “ गुरु जी इसमें से तो गुलाब की बड़ी अच्छी खुशबू आ रही है ।”
    तब अध्यापक बोले – “ बच्चो ! जानते हो इस मिट्टी में यह मनमोहक महक कैसे आई ? दरअसल इस मिट्टी पर गुलाब के फूल, टूट टूटकर गिरते रहते हैं, तो मिट्टी में भी गुलाब की महक आने लगी है जो की ये असर संगत का है और जिस प्रकार गुलाब की पंखुड़ियों की संगति के कारण इस मिट्टी में से गुलाब की महक आने लगी उसी प्रकार जो व्यक्ति जैसी संगत में रहता है उसमें वैसे ही गुणदोष आ जाते हैं ।
    संगति का असर कहानी से सीख Moral of the Story on Sangati Ka Asar  :  इस शिक्षाप्रद कहानी से सीख मिलती है कि हमें सदैव अपनी संगत अच्छी रखनी चाहिए ।

All Subjects Textbooks and Refreshers available

International Development Week

  1. International Development Week (IDW) is an annual initiative held during the first full week in February. A uniquely Canadian tradition, IDW was initiated in 1991 by the Canadian International Development Agency (CIDA) in order to promote global peace. The Government of Canada, Global Affairs Canada (GAC), civil society organizations, schools, businesses, provinces, municipalities, volunteers and millions of interested Canadians participate in IDW each year.
    OCIC is proud to work in close collaboration with our members, partners and colleagues across Ontario and around the world to co-create meaningful opportunities for IDW and throughout the month of February to increase awareness of Canadians’ contributions to international cooperation, to celebrate and share achievements, and to encourage the active engagement of us all, as global citizens. A unique Canadian tradition since 1991, International Development Week (IDW) is held annually during the first full week of February. This year #IDW2024 will take place from February 4 to 10.  IDW aims to inform, inspire, and involve Canadians in Canada’s international development efforts.  It is also an opportunity to celebrate  Canadian contributions to eradicating poverty and building a more peaceful, inclusive more prosperous world.  
    The unifying theme of Go for the goals represents a call to action for Canadians to support the achievement of the UN Sustainable Development Goals.  Canada’s international development efforts have changed millions of lives for the better. In the past three years, this work has surmounted unprecedented challenges because of the pandemic. However, as COVID-19 threatens a decade of global progress in building a peaceful, just, inclusive, clean, resilient and prosperous world for everyone, it has also demonstrated how connected we really are. That is why the Sustainable Development Goals (SDGs) of the United Nations 2030 Agenda are more important than ever.

All Subjects Textbooks and Refreshers available

अंतर्राष्ट्रीय विकास सप्ताह

  1. अंतर्राष्ट्रीय विकास सप्ताह (आईडीडब्ल्यू) फरवरी के पहले पूर्ण सप्ताह के दौरान आयोजित एक वार्षिक पहल है। वैश्विक शांति को बढ़ावा देने के लिए कनाडाई अंतर्राष्ट्रीय विकास एजेंसी (CIDA) द्वारा 1991 में एक विशिष्ट कनाडाई परंपरा, IDW की शुरुआत की गई थी। कनाडा सरकार, ग्लोबल अफेयर्स कनाडा (जीएसी), नागरिक समाज संगठन, स्कूल, व्यवसाय, प्रांत, नगर पालिकाएं, स्वयंसेवक और लाखों इच्छुक कनाडाई हर साल आईडीडब्ल्यू में भाग लेते हैं।
    ओसीआईसी को आईडीडब्ल्यू के लिए सार्थक अवसरों का सह-निर्माण करने और अंतरराष्ट्रीय सहयोग में कनाडाई लोगों के योगदान के बारे में जागरूकता बढ़ाने, जश्न मनाने और साझा करने के लिए पूरे फरवरी महीने में ओन्टारियो और दुनिया भर में हमारे सदस्यों, भागीदारों और सहकर्मियों के साथ निकट सहयोग में काम करने पर गर्व है। उपलब्धियाँ, और वैश्विक नागरिकों के रूप में हम सभी की सक्रिय भागीदारी को प्रोत्साहित करना। 1991 से एक अनूठी कनाडाई परंपरा, अंतर्राष्ट्रीय विकास सप्ताह (आईडीडब्ल्यू) हर साल फरवरी के पहले पूर्ण सप्ताह के दौरान आयोजित किया जाता है। इस वर्ष #IDW2024 4 से 10 फरवरी तक होगा। IDW का लक्ष्य कनाडा के अंतर्राष्ट्रीय विकास प्रयासों में कनाडाई लोगों को सूचित करना, प्रेरित करना और शामिल करना है। यह गरीबी उन्मूलन और अधिक शांतिपूर्ण, समावेशी और अधिक समृद्ध दुनिया के निर्माण में कनाडाई योगदान का जश्न मनाने का भी एक अवसर है।
    लक्ष्यों के लिए जाओ की एकीकृत थीम संयुक्त राष्ट्र सतत विकास लक्ष्यों की उपलब्धि का समर्थन करने के लिए कनाडाई लोगों के लिए कार्रवाई के आह्वान का प्रतिनिधित्व करती है। कनाडा के अंतर्राष्ट्रीय विकास प्रयासों ने लाखों लोगों के जीवन को बेहतरी की ओर बदल दिया है। पिछले तीन वर्षों में, इस कार्य ने महामारी के कारण अभूतपूर्व चुनौतियों का सामना किया है। हालाँकि, चूँकि COVID-19 सभी के लिए एक शांतिपूर्ण, न्यायसंगत, समावेशी, स्वच्छ, लचीला और समृद्ध दुनिया बनाने में एक दशक की वैश्विक प्रगति को खतरे में डालता है, इसने यह भी प्रदर्शित किया है कि हम वास्तव में कितने जुड़े हुए हैं। यही कारण है कि संयुक्त राष्ट्र 2030 एजेंडा के सतत विकास लक्ष्य (एसडीजी) पहले से कहीं अधिक महत्वपूर्ण हैं।

All Subjects Textbooks and Refreshers available

Kala Ghoda Art Festival

  1. Kala Ghoda Art Festival is an unique festival held in Mumbai which celebrates art. A 9 day long festival dedicated to art gets organised by Kala Ghoda Association each year. The first time, this festival was celebrated in the 1999, and the same has managed to grow with leaps and bonds through passing years attracting thousands of people across the nation and globe. The number of events are definitely worth watching this extravaganza of the festival, with around 12 different sections. These sections varies from dance, music, theatre, films, food, literature, heritage, architecture, stand-up comedy, heritage walk/ride, section for children and on top of all Visual art being the major attraction. This amazing art Festival named after the blackish equestrian (Kala Ghoda) statue of Edward VII which used to be located in the fort area of Mumbai begins on 1st of February every year and fills the streets of Mumbai with vibrant colours, happiness and amusement, and cherishes the beauty and magnificence of the Indian heritage, culture and art. This festival has various offerings for visitors in the form of artists, talks, music, food and cultural workshops as well. Every year the whole festival revolves around a different theme making it even more special and unique than the previous one and even the upcoming one. As this festival is a tribute to the Indian culture and art series of Indian handicraft workshops, traditional food stalls, heritage walks and even cultural learnings and explorations are the most cherished activities by every visitor. Thebest part of it is, it is a street festival and remains open for each and every art lover or art curious individual with no entry fees. The ambience created here fills the heart, soul and mind with art, culture and joy at the same time.

All Subjects Textbooks and Refreshers available

काला घोड़ा कला महोत्सव

  1. काला घोड़ा कला महोत्सव मुंबई में आयोजित होने वाला एक अनोखा महोत्सव है जो कला का जश्न मनाता है। कला घोड़ा एसोसिएशन द्वारा प्रत्येक वर्ष कला को समर्पित 9 दिवसीय उत्सव का आयोजन किया जाता है। पहली बार, यह त्यौहार 1999 में मनाया गया था, और पिछले कुछ वर्षों में यह तेजी से बढ़ने में कामयाब रहा है और देश और दुनिया भर में हजारों लोगों को आकर्षित किया है। लगभग 12 अलग-अलग वर्गों के साथ, उत्सव के इस भव्य आयोजन में घटनाओं की संख्या निश्चित रूप से देखने लायक है। ये अनुभाग नृत्य, संगीत, थिएटर, फिल्म, भोजन, साहित्य, विरासत, वास्तुकला, स्टैंड-अप कॉमेडी, हेरिटेज वॉक/राइड, बच्चों के लिए अनुभाग और सबसे ऊपर दृश्य कला प्रमुख आकर्षण हैं। यह अद्भुत कला महोत्सव एडवर्ड सप्तम की काली अश्वारोही (काला घोड़ा) मूर्ति के नाम पर रखा गया है, जो मुंबई के किला क्षेत्र में स्थित था, हर साल 1 फरवरी को शुरू होता है और मुंबई की सड़कों को जीवंत रंगों, खुशियों और मनोरंजन से भर देता है, और भारतीय विरासत, संस्कृति और कला की सुंदरता और भव्यता को संजोता है। इस उत्सव में आगंतुकों के लिए कलाकारों, वार्ताओं, संगीत, भोजन और सांस्कृतिक कार्यशालाओं के रूप में विभिन्न पेशकशें हैं। हर साल पूरा त्योहार एक अलग थीम के इर्द-गिर्द घूमता है जो इसे पिछले और यहां तक ​​कि आने वाले की तुलना में और भी अधिक विशेष और अनोखा बनाता है। चूँकि यह त्यौहार भारतीय हस्तशिल्प कार्यशालाओं की भारतीय संस्कृति और कला श्रृंखला के लिए एक श्रद्धांजलि है, पारंपरिक भोजन स्टॉल, विरासत की सैर और यहां तक ​​कि सांस्कृतिक शिक्षा और अन्वेषण प्रत्येक आगंतुक के लिए सबसे पसंदीदा गतिविधियां हैं। इसकी सबसे अच्छी बात यह है कि यह एक स्ट्रीट फेस्टिवल है और प्रत्येक कला प्रेमी या कला जिज्ञासु व्यक्ति के लिए बिना किसी प्रवेश शुल्क के खुला रहता है। यहां बना माहौल एक ही समय में दिल, आत्मा और दिमाग को कला, संस्कृति और आनंद से भर देता है।

All Subjects Textbooks and Refreshers available

Surajkund Crafts Mela

  1. India is a country with diverse cultures and traditions. The Surajkund International Crafts Mela is a handicraft fair organized about 40 km from Delhi at Surajkund in the Faridabad district of Haryana. The annual handicraft fair at Surajkund during the first fortnight of every February celebrates everything fine in Indian folk traditions and culture. Over a million people visit the crafts fair during the fortnight.
    Surajkund International Crafts Mela is celebrated in Surajkund in the district of Faridabad, Haryana, every year.The mela is organised by Surajkund Mela Authority and Haryana Tourism in collaboration with the Union Ministries of Textiles, Tourism, and External and Cultural Affairs. It is a grand event that brings together craftsmen, artisans, cultural groups, and artists worldwide to participate in the event.
    The food court here provides the most authentic and vast cuisines from various parts of India, and the mela also includes an amusement park, and adventure sports, which attract many youngsters here.
    The fair was upgraded in 2013 to an international level, skyrocketing its popularity.
    The mela is attended by members of the South Asian Association for Regional Cooperation (SAARC) nations along with 15 countries from Africa and Europe, participated in the Mela, making it the largest global event.
    The Surajkund International Crafts Mela is a celebration of the diversity of India. The ambience is rural and ethnic. It presents India’s exotic and exquisite handlooms, handicrafts, and handmade items. The goal of the Surajkund International Crafts Mela is to promote India’s art forms. The ‘Mela’ identifies languishing and lesser-known crafts and offers a forum for their exhibition and export as well.

All Subjects Textbooks and Refreshers available

सूरजकुंड शिल्प मेला

  1. भारत विविध संस्कृतियों और परंपराओं वाला देश है। सूरजकुंड अंतर्राष्ट्रीय शिल्प मेला एक हस्तशिल्प मेला है जो दिल्ली से लगभग 40 किमी दूर हरियाणा के फरीदाबाद जिले के सूरजकुंड में आयोजित किया जाता है। हर फरवरी के पहले पखवाड़े के दौरान सूरजकुंड में लगने वाला वार्षिक हस्तशिल्प मेला भारतीय लोक परंपराओं और संस्कृति की हर अच्छी चीज़ का जश्न मनाता है। एक पखवाड़े के दौरान दस लाख से अधिक लोग शिल्प मेले में आते हैं।
    सूरजकुंड अंतर्राष्ट्रीय शिल्प मेला हर साल हरियाणा के फरीदाबाद जिले के सूरजकुंड में मनाया जाता है। मेले का आयोजन सूरजकुंड मेला प्राधिकरण और हरियाणा पर्यटन द्वारा केंद्रीय कपड़ा, पर्यटन और विदेश और सांस्कृतिक मामलों के मंत्रालयों के सहयोग से किया जाता है। यह एक भव्य आयोजन है जो दुनिया भर के शिल्पकारों, कारीगरों, सांस्कृतिक समूहों और कलाकारों को इस आयोजन में भाग लेने के लिए एक साथ लाता है।
    यहां का फूड कोर्ट भारत के विभिन्न हिस्सों से सबसे प्रामाणिक और विशाल व्यंजन प्रदान करता है, और मेले में एक मनोरंजन पार्क और साहसिक खेल भी शामिल हैं, जो यहां कई युवाओं को आकर्षित करते हैं।
    मेले को 2013 में अंतरराष्ट्रीय स्तर पर अपग्रेड किया गया, जिससे इसकी लोकप्रियता आसमान छू गई।
    मेले में दक्षिण एशियाई क्षेत्रीय सहयोग संगठन (सार्क) देशों के सदस्यों के साथ-साथ अफ्रीका और यूरोप के 15 देशों ने भाग लिया, जिससे यह सबसे बड़ा वैश्विक आयोजन बन गया।
    सूरजकुंड अंतर्राष्ट्रीय शिल्प मेला भारत की विविधता का उत्सव है। माहौल ग्रामीण और जातीय है. यह भारत के विदेशी और उत्तम हथकरघा, हस्तशिल्प और हस्तनिर्मित वस्तुओं को प्रस्तुत करता है। सूरजकुंड अंतर्राष्ट्रीय शिल्प मेले का लक्ष्य भारत के कला रूपों को बढ़ावा देना है। ‘मेला’ लुप्तप्राय और कम-ज्ञात शिल्पों की पहचान करता है और उनकी प्रदर्शनी और निर्यात के लिए एक मंच भी प्रदान करता है।

All Subjects Textbooks and Refreshers available

World Wetland Day

  1. World Wetland Day is celebrated on 2nd February each year to celebrate wetlands and advocate for their conservation. This day was first celebrated in 1997 after the Ramsar Convention officiated the day. World Wetlands Day is an attempt to help world leaders realize the significance of these land masses and spread awareness about them.
    World Wetland Day was first acknowledged by the Ramsar convention. Now, this day has become a popular global phenomenon. World Wetlands Day is celebrated to spread awareness about wetlands and their importance to the environment. Wetlands are known for being biologically diverse when compared to other landforms and therefore, require conservation. For the preservation of these land masses, spreading public awareness about them is also important. World Wetland Day aims to spread the word about wetlands and the fascinating vegetation that they house.
    Wetlands are among the world’s most productive environments. They’re a valuable resource for nature and people, but they are under threat from climate change, pollution, water extraction, and urban development. Yet if planned and managed sustainably, urban expansion can provide an opportunity to restore and create wetlands that deliver multiple benefits to people and nature.
    An intergovernmental treaty, the Ramsar Convention on Wetlands provides the framework for taking national action and international cooperation for the conservation and mindful use of wetlands around the world. It also includes using the resources found in the wetlands mindfully, keeping sustainability in mind. Wetlands Day aims to spread awareness about these amazing landforms and the resources they provide us.

All Subjects Textbooks and Refreshers available

विश्व आर्द्रभूमि दिवस

  1. आर्द्रभूमियों का जश्न मनाने और उनके संरक्षण की वकालत करने के लिए प्रत्येक वर्ष 2 फरवरी को विश्व आर्द्रभूमि दिवस मनाया जाता है। यह दिन पहली बार 1997 में रामसर कन्वेंशन द्वारा इस दिन को लागू करने के बाद मनाया गया था। विश्व आर्द्रभूमि दिवस विश्व नेताओं को इन भूमि क्षेत्रों के महत्व को समझने और उनके बारे में जागरूकता फैलाने में मदद करने का एक प्रयास है।
    विश्व वेटलैंड दिवस को सबसे पहले रामसर सम्मेलन द्वारा मान्यता दी गई थी। अब, यह दिन एक लोकप्रिय वैश्विक घटना बन गया है। विश्व आर्द्रभूमि दिवस आर्द्रभूमियों और पर्यावरण के लिए उनके महत्व के बारे में जागरूकता फैलाने के लिए मनाया जाता है। अन्य भू-आकृतियों की तुलना में आर्द्रभूमियाँ जैविक रूप से विविध होने के लिए जानी जाती हैं और इसलिए, संरक्षण की आवश्यकता होती है। इन भू-भागों के संरक्षण के लिए इनके बारे में जन-जागरूकता फैलाना भी जरूरी है। विश्व वेटलैंड दिवस का उद्देश्य वेटलैंड्स और उनमें मौजूद आकर्षक वनस्पतियों के बारे में प्रचार करना है।
    आर्द्रभूमियाँ दुनिया के सबसे अधिक उत्पादक वातावरणों में से एक हैं। वे प्रकृति और लोगों के लिए एक मूल्यवान संसाधन हैं, लेकिन वे जलवायु परिवर्तन, प्रदूषण, जल निकासी और शहरी विकास से खतरे में हैं। फिर भी अगर योजनाबद्ध तरीके से योजना बनाई और प्रबंधित किया जाए, तो शहरी विस्तार आर्द्रभूमि को बहाल करने और बनाने का अवसर प्रदान कर सकता है जो लोगों और प्रकृति को कई लाभ पहुंचाता है।
    एक अंतरसरकारी संधि, वेटलैंड्स पर रामसर कन्वेंशन दुनिया भर में वेटलैंड्स के संरक्षण और सावधानीपूर्वक उपयोग के लिए राष्ट्रीय कार्रवाई और अंतर्राष्ट्रीय सहयोग के लिए रूपरेखा प्रदान करता है। इसमें स्थिरता को ध्यान में रखते हुए आर्द्रभूमि में पाए जाने वाले संसाधनों का सोच-समझकर उपयोग करना भी शामिल है। वेटलैंड्स दिवस का उद्देश्य इन अद्भुत भू-आकृतियों और उनके द्वारा हमें प्रदान किए जाने वाले संसाधनों के बारे में जागरूकता फैलाना है।

All Subjects Textbooks and Refreshers available

Indian Coast Guard Day

  1. Indian Coast Guard Day will be celebrated on 1 February 2023 to mark the 47th raising day of India’s maritime Armed Force, the Indian Coast Guard. This force was established by the Coast Guard Act, 1978 on 1 February 1977. Indian Coast Guard Day is about highlighting and celebrating the great achievements of the Coast Guard.
    The history of Indian Coast Guard Day can be traced back to 1 February 1977, when the Parliament of India passed the Coast Guard Act, 1978. The organization was set up to be operated under the Ministry of Defence. On 19 August 1978, then-President Morarji Desai officially launched the organization with just seven ships.
    Indian Coast Guard Day is a celebration of the fourth most powerful Coast Guard in the world. It is also a day to celebrate the achievements of the organization. We must all remember to honour the service of the organization on Indian Coast Guard Day 2023.
    Indian Coast Guard has an inventory of 158 ships and 70 aircraft. The organization works closely with the Indian Navy, CAPF etc. Indian Coast Guard Day is celebrated to remember and honour the efforts of the organisation that works for the maritime security of our nation. Established in 1977 with just 7 surface platforms, the Indian Coast Guard has grown into the world’s fourth-biggest Coast Guard. The organization has an impressive fleet consisting of distinguished ships and aircraft.

All Subjects Textbooks and Refreshers available

भारतीय तटरक्षक दिवस

  1. भारत के समुद्री सशस्त्र बल, भारतीय तटरक्षक बल के 47वें स्थापना दिवस को चिह्नित करने के लिए 1 फरवरी 2023 को भारतीय तटरक्षक दिवस मनाया जाएगा। इस बल की स्थापना 1 फरवरी 1977 को तटरक्षक अधिनियम, 1978 द्वारा की गई थी। भारतीय तटरक्षक दिवस तटरक्षक की महान उपलब्धियों को उजागर करने और जश्न मनाने के बारे में है।
    भारतीय तटरक्षक दिवस का इतिहास 1 फरवरी 1977 से खोजा जा सकता है, जब भारत की संसद ने तटरक्षक अधिनियम, 1978 पारित किया था। संगठन को रक्षा मंत्रालय के तहत संचालित करने के लिए स्थापित किया गया था। 19 अगस्त 1978 को तत्कालीन राष्ट्रपति मोरारजी देसाई ने केवल सात जहाजों के साथ आधिकारिक तौर पर संगठन की शुरुआत की।
    भारतीय तटरक्षक दिवस दुनिया के चौथे सबसे शक्तिशाली तटरक्षक का उत्सव है। यह संगठन की उपलब्धियों का जश्न मनाने का भी दिन है। हम सभी को भारतीय तटरक्षक दिवस 2023 पर संगठन की सेवा का सम्मान करना याद रखना चाहिए।
    भारतीय तटरक्षक बल के पास 158 जहाजों और 70 विमानों की सूची है। संगठन भारतीय नौसेना, सीएपीएफ आदि के साथ मिलकर काम करता है। भारतीय तटरक्षक दिवस हमारे देश की समुद्री सुरक्षा के लिए काम करने वाले संगठन के प्रयासों को याद करने और सम्मान देने के लिए मनाया जाता है। 1977 में केवल 7 सतह प्लेटफार्मों के साथ स्थापित, भारतीय तटरक्षक बल दुनिया का चौथा सबसे बड़ा तटरक्षक बल बन गया है। संगठन के पास प्रतिष्ठित जहाजों और विमानों से युक्त एक प्रभावशाली बेड़ा है।

All Subjects Textbooks and Refreshers available

Amazing Facts

  1. Increase your knowledge and become a more learned student by going through this list of short and interesting facts.
    1. Carrots used to be purple in colour.
    2. Some ice caves have hot springs.
    3. 1 day on Venus = 8 months on Earth
    4. A shrimp’s heart is placed in its head.
    5. Animals do not have chins.
    6. Hippopotamuses can run faster than humans.
    7. Monkeys can go bald in old age, just like humans.
    8. Applesauce was the first food to be eaten in space.
    9. Peanuts are not nuts. Peanuts are legumes.
    10. Your heart is about as big as your fist.

All Subjects Textbooks and Refreshers available

आश्चर्यजनक तथ्य

  1. छोटे और दिलचस्प तथ्यों की इस सूची को पढ़कर अपना ज्ञान बढ़ाएँ और अधिक विद्वान छात्र बनें।
    1.गाजर का रंग बैंगनी हुआ करता था।
    1. कुछ बर्फ की गुफाओं में गर्म झरने होते हैं।
    2. शुक्र पर 1 दिन = पृथ्वी पर 8 महीने
    3. झींगा का दिल उसके सिर में होता है।
    4. जानवरों की ठुड्डी नहीं होती.
    5. दरियाई घोड़ा इंसानों से भी तेज दौड़ सकता है।
    6. इंसानों की तरह बंदर भी बुढ़ापे में गंजे हो सकते हैं।
    7. सेब की चटनी अंतरिक्ष में खाया जाने वाला पहला भोजन था।
    8. मूँगफली मेवे नहीं हैं। मूँगफली फलियाँ हैं।
    10.आपका दिल आपकी मुट्ठी जितना बड़ा है।
     

All Subjects Textbooks and Refreshers available

Shaheed Diwas

  1. In India, Shaheed Diwas or Martyrs’ Day, is celebrated on many different dates. The dates are 23rd March, 30th January, 19th May, 21st October, 17th November, 19th November, and 24th November. Shaheed Diwas is celebrated on these dates to honour notably gallant and brave Indian men and women who lost their lives while saving our country from external enemies.
    The Bihar government recently announced the celebration of 15th February as another Shaheed Diwas to honor the martyrdom of 34 freedom fighters who were killed in Munger in 1932.
    Shaheed Diwas is an annual commemoration of the martyrs of the nation. In India, this day is celebrated on many different dates, but the idea of the day is the same – to honor those who lost their lives for the nation. While 30th January is observed as Shahid Diwas on a national level, other days are also observed to honor the martyrs of the nation on a state level.
    30th January is observed as Shaheed Diwas for remembering the assassination of Mohandas Karamchand Gandhi, the father of the nation. On this day in 1948, M.K.Gandhi was assassinated by Nathuram Godse. Mr Gandhi was assassinated when he was offering his evening prayers at Gandhi Smriti in Birla House.
    Every year on 30th January, India’s President, Vice President, Prime Minister, Defence Minister, and the Service Chiefs of the Army, Air Force, and Navy lay wreaths on Mr Gandhi’s samadhi at Delhi’s Raj Ghat. It is followed by a two-minute countrywide silence in memory of Indian martyrs.

All Subjects Textbooks and Refreshers available

शहीद दिवस

  1. भारत में शहीद दिवस या शहीद दिवस, कई अलग-अलग तारीखों पर मनाया जाता है। तारीखें हैं 23 मार्च, 30 जनवरी, 19 मई, 21 अक्टूबर, 17 नवंबर, 19 नवंबर और 24 नवंबर। शहीद दिवस उन वीर और बहादुर भारतीय पुरुषों और महिलाओं को सम्मानित करने के लिए इन तिथियों पर मनाया जाता है जिन्होंने हमारे देश को बाहरी दुश्मनों से बचाते हुए अपनी जान गंवा दी।
    बिहार सरकार ने हाल ही में 1932 में मुंगेर में मारे गए 34 स्वतंत्रता सेनानियों की शहादत का सम्मान करने के लिए 15 फरवरी को एक और शहीद दिवस के रूप में मनाने की घोषणा की।
    शहीद दिवस देश के शहीदों का वार्षिक स्मरणोत्सव है। भारत में यह दिन कई अलग-अलग तारीखों पर मनाया जाता है, लेकिन इस दिन का विचार एक ही है – देश के लिए अपनी जान गंवाने वालों का सम्मान करना। जहां 30 जनवरी को राष्ट्रीय स्तर पर शहीद दिवस के रूप में मनाया जाता है, वहीं राज्य स्तर पर देश के शहीदों को सम्मानित करने के लिए अन्य दिन भी मनाए जाते हैं।
    राष्ट्रपिता मोहनदास करमचंद गांधी की हत्या की याद में 30 जनवरी को शहीद दिवस के रूप में मनाया जाता है। आज ही के दिन 1948 में नाथूराम गोडसे ने एम.के.गांधी की हत्या कर दी थी। श्री गांधी की उस समय हत्या कर दी गई जब वह बिड़ला हाउस में गांधी स्मृति में शाम की प्रार्थना कर रहे थे।
    हर साल 30 जनवरी को, भारत के राष्ट्रपति, उपराष्ट्रपति, प्रधान मंत्री, रक्षा मंत्री और सेना, वायु सेना और नौसेना के सेवा प्रमुख दिल्ली के राजघाट पर श्री गांधी की समाधि पर पुष्पांजलि अर्पित करते हैं। इसके बाद भारतीय शहीदों की याद में देशव्यापी दो मिनट का मौन रखा जाता है।

All Subjects Textbooks and Refreshers available

World Leprosy Day

  1. World Leprosy Day is celebrated globally on January’s last Sunday every year. Organisations of people suffering from this disease and NGOs organised this day, including The Leprosy Mission. This provides leprosy patients with a chance at remarkable representation.
    The first World Leprosy Day was celebrated in 1954 by the French humanitarian Raoul Follereau. He did so to honour Mahatma Gandhi, who had compassion for people afflicted with leprosy and made people know about this ancient disease. Therefore, India celebrates on 30th January every year, which is the death anniversary of Mahatma Gandhi.
    We rejoice in the day to spread awareness about a disease that everyone thinks has become non-existent.Every year, 100,000-200,000 people get a diagnosis of leprosy, and millions live with the tragic consequences of slowed leprosy cure.
    This day celebrates the lives of victims of this disease, spreads awareness of the symptoms and signs of leprosy, and aims to destigmatise this condition. It also provides an opportunity to collect funds to help curb the transmission of this disease.
    NGOs, Churches, and leprosy survivors, aiming to increase awareness that this disease is still prevalent and is still ruining lives, celebrate the day in the countries where this is either non-existent or very rare.In countries where the disease still lasts, people and communities infected by leprosy unite to spread awareness and organise events focussing on destigmatising leprosy. There is also a good arrangement from governments in many countries by marking the day via events and ministers.

All Subjects Textbooks and Refreshers available

विश्व कुष्ठ दिवस

  1. विश्व कुष्ठ रोग दिवस हर साल जनवरी के आखिरी रविवार को विश्व स्तर पर मनाया जाता है। इस बीमारी से पीड़ित लोगों के संगठनों और गैर सरकारी संगठनों ने इस दिन का आयोजन किया, जिसमें द लेप्रोसी मिशन भी शामिल था। इससे कुष्ठ रोगियों को उल्लेखनीय प्रतिनिधित्व का मौका मिलता है।
    पहला विश्व कुष्ठ रोग दिवस 1954 में फ्रांसीसी मानवतावादी राउल फोलेरो द्वारा मनाया गया था। उन्होंने ऐसा महात्मा गांधी का सम्मान करने के लिए किया, जिनके मन में कुष्ठ रोग से पीड़ित लोगों के प्रति दया थी और उन्होंने लोगों को इस प्राचीन बीमारी के बारे में बताया। इसलिए, भारत हर साल 30 जनवरी को महात्मा गांधी की पुण्य तिथि मनाता है।
    हम उस बीमारी के बारे में जागरूकता फैलाने के दिन की खुशी मनाते हैं जिसके बारे में हर कोई सोचता है कि वह अस्तित्वहीन हो गई है। हर साल, 100,000-200,000 लोगों में कुष्ठ रोग का निदान होता है, और लाखों लोग कुष्ठ रोग के धीमे इलाज के दुखद परिणामों के साथ जीते हैं।
    यह दिन इस बीमारी के पीड़ितों के जीवन का जश्न मनाता है, कुष्ठ रोग के लक्षणों और लक्षणों के बारे में जागरूकता फैलाता है और इस स्थिति को नष्ट करने का लक्ष्य रखता है। यह इस बीमारी के संचरण को रोकने में मदद करने के लिए धन इकट्ठा करने का अवसर भी प्रदान करता है।
    एनजीओ, चर्च और कुष्ठ रोग से बचे लोग, जागरूकता बढ़ाने के उद्देश्य से कि यह बीमारी अभी भी प्रचलित है और अभी भी जीवन बर्बाद कर रही है, उन देशों में यह दिन मनाते हैं जहां यह या तो अस्तित्वहीन है या बहुत दुर्लभ है। जिन देशों में यह बीमारी अभी भी मौजूद है, लोग और कुष्ठ रोग से संक्रमित समुदाय जागरूकता फैलाने के लिए एकजुट होते हैं और कुष्ठ रोग को ख़त्म करने पर ध्यान केंद्रित करते हुए कार्यक्रम आयोजित करते हैं। कई देशों में सरकारों की ओर से भी इस दिन को आयोजनों और मंत्रियों के माध्यम से चिह्नित करने की अच्छी व्यवस्था है।

All Subjects Textbooks and Refreshers available

The Baby Camel and His Mother

  1. Once there was a baby camel who lived with her mother. She asked her mom one day, “Why do camels have humps?”
    The mother camel smiled and replied, “As desert animals, we need to store water so we can survive for long periods of time without drinking.” The baby camel thought for a moment and then asked, “Okay, why are our legs long and we have large, round, soft feet?”
    stories of bravery and resilience for children | stories that promote kindness and empathy | stories of perseverance and determination for kids
    The baby camel’s story teaches the importance of leveraging your natural strengths in your environment.
    The mother replied, “Our long legs keep our bodies further away from the hot ground and our large soft feet prevent us from sinking into the sand. This way we can move around the desert better than anyone else can!”
    The baby camel then asked, “Mom, why do we have long eyelashes?”
    The mother camel responded, “Your long thick eyelashes protect your eyes from the desert sand when it blows in the wind.”
    The baby replied, “I see. So the hump is to store water when we are in the desert, the legs are for walking through the desert and these eyelashes protect my eyes from the desert.”
    The mom agreed.
    Confused, the baby camel asked, “If God has given us so many talents to live in deserts, then why are we in the Zoo?”
    This left the mother speechless.
    The Moral
    The story of the baby camel teaches the importance of living and working in an environment where you can best use your natural strengths. Your skills, knowledge, talents, abilities and experiences are only beneficial if you are in the right place where you can use them appropriately.
    You cannot grow or excel in an environment that limits your potential. This story can help teach children the importance of finding their strengths and passions and using them in ways that are beneficial.

All Subjects Textbooks and Refreshers available

ऊंट का बच्चा और उसकी माँ

  1. एक बार एक ऊंटनी का बच्चा अपनी माँ के साथ रहता था। एक दिन उसने अपनी माँ से पूछा, “ऊँटों के कूबड़ क्यों होते हैं?”
    माँ ऊँट ने मुस्कुराते हुए उत्तर दिया, “रेगिस्तानी जानवरों के रूप में, हमें पानी जमा करने की ज़रूरत है ताकि हम बिना पिए लंबे समय तक जीवित रह सकें।” ऊंट के बच्चे ने एक पल सोचा और फिर पूछा, “ठीक है, हमारे पैर लंबे क्यों हैं और हमारे पैर बड़े, गोल, मुलायम क्यों हैं?”
    बच्चों के लिए बहादुरी और लचीलेपन की कहानियाँ | कहानियाँ जो दया और सहानुभूति को बढ़ावा देती हैं | बच्चों के लिए दृढ़ता और दृढ़ संकल्प की कहानियाँ
    ऊंट के बच्चे की कहानी आपके वातावरण में अपनी प्राकृतिक शक्तियों का लाभ उठाने का महत्व सिखाती है।
    माँ ने उत्तर दिया, “हमारे लंबे पैर हमारे शरीर को गर्म ज़मीन से दूर रखते हैं और हमारे बड़े मुलायम पैर हमें रेत में डूबने से रोकते हैं। इस तरह हम रेगिस्तान में किसी और की तुलना में बेहतर तरीके से घूम सकते हैं!
    ऊंट के बच्चे ने फिर पूछा, “माँ, हमारी पलकें लंबी क्यों हैं?”
    ऊँट की माँ ने उत्तर दिया, “तुम्हारी लम्बी, घनी पलकें हवा में उड़ने पर रेगिस्तान की रेत से तुम्हारी आँखों की रक्षा करती हैं।”
    बच्चे ने उत्तर दिया, “मैं देखता हूँ। इसलिए जब हम रेगिस्तान में होते हैं तो कूबड़ पानी जमा करने के लिए होता है, पैर रेगिस्तान में चलने के लिए होते हैं और ये पलकें रेगिस्तान से मेरी आँखों की रक्षा करती हैं।
    माँ मान गयी.
    उलझन में, बच्चे ऊँट ने पूछा, “अगर भगवान ने हमें रेगिस्तान में रहने के लिए इतनी सारी प्रतिभाएँ दी हैं, तो हम चिड़ियाघर में क्यों हैं?”
    इससे मां अवाक रह गईं.
    नैतिक
    ऊंट के बच्चे की कहानी ऐसे वातावरण में रहने और काम करने का महत्व सिखाती है जहां आप अपनी प्राकृतिक शक्तियों का सर्वोत्तम उपयोग कर सकते हैं। आपके कौशल, ज्ञान, प्रतिभाएं, योग्यताएं और अनुभव तभी फायदेमंद हैं यदि आप सही जगह पर हैं जहां आप उनका उचित उपयोग कर सकते हैं।
    आप ऐसे माहौल में विकसित या उत्कृष्ट नहीं हो सकते जो आपकी क्षमता को सीमित करता हो। यह कहानी बच्चों को अपनी ताकत और जुनून को खोजने और उन्हें लाभकारी तरीकों से उपयोग करने का महत्व सिखाने में मदद कर सकती है।

All Subjects Textbooks and Refreshers available

Click here for Archive Special Item

Disclaimer: All contents are collected from various sources and updated at this platform to help teachers and students. If content owner (Original Creator) have any objection, Please mail us to info@cbsecontent.com with ID Proof, content will be removed/credited. Thanks and Regards

All Subjects Textbooks and Refreshers available

Amazon Affiliate Disclaimer:   cbsecontent.com is a part of Amazon Services LLC Associates Program, an affiliate advertising program  designed to provide a means for sites to earn advertising fees by advertising and linking to Amazon.in. As an amazon associates we earn from qualifying purchases.

Subscribe
Notify of
guest

0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments
error: Content is protected !!
0
Would love your thoughts, please comment.x
()
x
Scroll to Top